जानिए । हिन्दू विवाह में क्यो लेते हैं अग्नि के फेरे । Yogesh Mishra

अलग-अलग परिवारों में शादी की कई तरह की रस्में होती हैं लेकिन लगभग सभी शादियों में अग्नि को साक्षी रखकर दूल्हा-दुल्हन का सात फेरे लेना अहम होता है। इतना ही नहीं शादी के पहले होने वाली पूजा में भी अग्नि की भूमिका अहम मानी जाती है।

दरअसल अग्नि वातावरण को शुद्ध करने के लिए जरूरी है। इससे नकारात्मकऊर्जा नष्ट होती है और सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। हवन के दौरान अग्नि में डाली जाने वाली लकड़ी, चावल, घी आदि से उठने वाला धुआं घर के कीटाणुओं को नष्ट करता है और वातावरण को शुद्ध करता है। –

अग्नि पृथ्वी पर सूर्य की प्रतिनिधि है। सूर्य को विष्णु का रूप माना जाता है। अत: अग्नि के समक्ष फेरे लेने को परमात्मा के समक्ष फेरे लेने के समान माना जाता है। साथ ही अग्नि के माध्यम से ही देवताओं को यज्ञीय आहुतियां देकर पुष्ट किया जाता है।

इस प्रकार अग्नि के रूप में सभी देवताओं को साक्षी मानकर विवाह के वैदिक नियमानुसार विवाह में सात फेरे लेने का विधान है। पहले तीन फेरों में कन्या वर के आगे चलती है। उसके बाद वर आगे चलता है। पहले तीन फरों को धर्म, अर्थ और काम का प्रतिक माना गया है। इसलिए वधु आगे चलती है। जबकि चौथा फेरा मोक्ष का प्रतिक माना गया है इसलिए इस फेरे से वधु को वर का अनुसरण करना पडता है।यह सात फेरे ही हिन्दू विवाह की स्थिरता का मुख्य स्तंभ होते हैं।

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

मांसाहारी थे विवेकानंद ,गांजा भी पीते थे इसी कारण से हुई थी मृत्यु ! : Yogesh Mishra

स्वामी विवेकानन्द का जन्म १२ जनवरी सन्‌ १८६3 को कलकत्ता में हुआ था। इनका बचपन …