Astro Health Tips

ध्यान की सृजनात्मक शक्ति से ही होगा नये विश्व का निर्माण !! Yogesh Mishra

हम लोगों ने दुनिया को योग का सूत्र दिया है, ध्यान का सूत्र दिया है ! ध्यान करने का मतलब है अपनी शक्ति से परिचित होना, अपनी क्षमता से परिचित होना, अपना सृजनात्मक निर्माण करना, अहिंसा की शक्ति को प्रतिष्ठापित करना ! जो आदमी अपने भीतर गहराई से नहीं देखता, …

Read More »

“अवसाद” (डिप्रेशन) का ज्योतिषी के पास कोई इलाज नहीं है ! Yogesh Mishra

ग्रह दोष के कारण किसी व्यक्ति का अप्रत्याशित समस्याओं में फंस जाना एक अलग विषय है ! और अप्रत्याशित समस्याओं के आ जाने के कारण अवसाद अर्थात डिप्रेशन में चला जाना एक दूसरा विषय है ! प्रायः लोग इन दोनों को एक साथ जोड़ कर देखते हैं और अवसाद अर्थात …

Read More »

जानिये साधक समाज में लोगों से मिलना-जुलना क्यों छोड़ देते हैं ! Yogesh Mishra

आपने देखा होगा कि जब कोई संत अपने साधना की पराकाष्ठा पर पहुंच जाता है, तो वह समाज के अन्य व्यक्तियों के साथ मिलना जुलना लगभग बंद कर देता है ! इसका मुख्य कारण क्या है ? गहराई से चिंतन करने पर पता चलता है कि जब व्यक्त साधना की …

Read More »

ध्यान से होती है बिना दवा के असाध्य रोगों की चिकित्सा कैसे करें | Yogesh Mishra

हमारे वेदों में और पाणिनी सूत्र में “जीवनी ऊर्जा चिकित्सा” का उल्लेख मिलता है ! वेदों के अनुसार जीवनी ऊर्जा को “प्राण शक्ति” का नाम दिया गया है ! यह प्राण शक्ति “वह” शक्ति है, जो प्रत्येक जीव में सतत रूप से कार्य करती है और जिसके क्षीण पड़ने पर …

Read More »

‘जाग्रत सरस्वती यंत्र’ से पाइये जीवन में सफलता | Yogesh Mishra

आज प्रतियोगिता का दौर है ! समाज के मध्यम परिवार का व्यक्ति अपने जीविकोपार्जन के लिए तरह-तरह की प्रतियोगी परीक्षाओं का सामना करता है ! प्राय: देखा जाता है कि व्यक्ति में योग्यता, क्षमता, प्रतिभा होते हुए भी वह प्रतियोगी परीक्षा में 1 या 2 नंबरों से रुक जाता है …

Read More »

जानिये: संगीत से कैसे अति गंभीर रोगों का निवारण होता है ? जरूर पढ़ें ।

संगीत तरंगों का प्रभाव जड़-चेतन पर समान रूप से पड़ता है | लय और ताल में बंधे हुए स्वर प्रवाह को संगीत कहते हैं | यह गायन के रूप में स्वर प्रवाह के साथ ही जुड़ा हुआ हो सकता है और वाद्य यंत्रों की तदनुरूप ध्वनि भी संगीत में गिनी …

Read More »

Diabetes (मधुमेह) का कारण वास्तु दोष भी हो सकता है । पढ़ें कैसे करें उपाय ।

भारत के महान चिकित्सक चरक ने मधुमेह के बारे में लगभग 2500 साल पहले चरक संहिता में लिख दिया था जबकि पश्चिमी चिकित्साशास्त्र जिसे आज हम बहुत उन्नत मानते हैं, को यह रोग लगभग 17वीं शताब्दी में पता लगा था कि इंसुलिन हारमोंस खून में शक्कर को नियंत्रित करता है …

Read More »

कैसे करें ? आँखों मे होने वाले 94 प्रकार के रोगो का उपचार ? जरूर पढ़ें ।

मित्रो भारत के महाऋषि श्री वागभट्टाचार्य द्वारा रचित रसायन शास्त्र के प्रमुख आयुर्वेदिक ग्रंथ ”रसरत्नसमुच्चय” के 23 वें अध्याय में नेत्र रोगों की संख्या का वर्णन किया गया है । जिसके अनुसार नेत्र के कृष्ण पटल पर 5, नेत्र की संधियों में 9, नेत्र के संपूर्ण श्वेत पटल पर 13, …

Read More »