Yogesh Mishra

मेदिनी ज्योतिष की गणना के अनुसार भारत वर्ष 2047 में पुनः हिंदू राष्ट्र घोषित होगा । योगेश मिश्र

भारत 1971 अघोषित हिंदू राष्ट्र था क्योंकि 1947 में भारत का बटवारा इसी शर्त पर हुआ था कि हिंदू और मुसलमानों की संस्कृति अलग –अलग है अत: हिंदू मुसलमान एक साथ नहीं रह सकते | मुसलमानों के लिए हिंदुस्तान का एक अंग काट कर पाकिस्तान के नाम पर दे दिया …

Read More »

कुंडली में नीच ग्रह से घबराएँ नहीं , ये आपको राजयोग भी दे सकता है । योगेश मिश्र

ज्योतिष विद्या में अक्सर सुनने में आता है कि आपका यह ग्रह नीच का है और लोग उसे सुनकर डर जाते हैं या अल्पज्ञानी ज्योतिषीयों द्वारा डरा दिये जाते हैं । अगर आपकी कुंडली में कोई ग्रह नीच राशि में बैठा हो या शत्रु भाव में हो तो आम धारणा …

Read More »

जानिये: क्या आपको शेयर बाजार में दाव खेलना चाहिए या नहीं । जरूर पढ़ें । महत्वपूर्ण जानकारी ।

आजकल हर कोई यह जानता है कि “शेयर व सट्टा बाजार” भी धनार्जन के लिए अच्छा माध्यम है। लेकिन यह ध्यान रखें कि जन्म कुण्डली के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति न तो शेयर क्रय कर सकता है और न ही सट्टा खेल सकता है। प्रत्येक व्यक्ति की लॉटरी भी नहीं निकल …

Read More »

जानिये: संगीत से कैसे अति गंभीर रोगों का निवारण होता है ? जरूर पढ़ें ।

संगीत तरंगों का प्रभाव जड़-चेतन पर समान रूप से पड़ता है | लय और ताल में बंधे हुए स्वर प्रवाह को संगीत कहते हैं | यह गायन के रूप में स्वर प्रवाह के साथ ही जुड़ा हुआ हो सकता है और वाद्य यंत्रों की तदनुरूप ध्वनि भी संगीत में गिनी …

Read More »

जानिये । किस कामना की पूर्ति के लिए कौन सी तिथि को रुद्राभिषेक करना चाहिए ?

लोग कहते हैं कि भगवान का नाम कभी भी लिया जा सकता है यह सच है लेकिन साथ ही विशेष अनुष्ठानों के लिये शास्त्रों में कुछ विशेष विधान दिये गये हैं | रुद्राभिषेक के लिये भी शिववास की गणना का विशेष सिद्धान्त है जो नीचे दिया जा रहा है | …

Read More »

ज्योतिष के ये दस गुप्त सूत्र आपके बड़े काम के हो सकते हैं एक बार जरूर पढ़ें ।

निम्नलिखित ज्योतिष के ये 10 सूत्र पंडित योगेश मिश्र द्वारा स्व अनुभूत किए गये है । जो आपके लिए बहुत लाभकारी हो सकते है,विस्तार से पढ़ें । 1- त्रिक भावों के स्वामी यदि 6,8,12 में ही हो या केंद्र त्रिकोण में बलवान राशि में हों तो सारी कुंडली को अधिक …

Read More »

जानिए ! रुद्राभिषेक में प्रयोग किये गये पदार्थ का विधान और पूजन के लाभ ! जरूर पढ़ें ।

रुद्राभिषेक : रूद्र अर्थात भूत भावन शिव का अभिषेक शिव और रुद्र परस्पर एक दूसरे के पर्यायवाची हैं। शिव को ही रुद्र कहा जाता है क्योंकि- रुतम्-दु:खम्, द्रावयति-नाशयतीतिरुद्र: यानि की भोले सभी दु:खों को नष्ट कर देते हैं। हमारे धर्मग्रंथों के अनुसार हमारे द्वारा किए गए पाप ही हमारे दु:खों …

Read More »

बहुत ही महत्वपूर्ण सूचना,दीपावली के दिन अयोध्या नहीं लौटे थे भगवान राम । जरूर पढ़ें । share करें ।

मित्रो यदि आप में थोड़ा सा भी धैर्य हो और सत्य को जानने की वास्तव मे जिज्ञासा हो तभी आप इस लेख को पढ़ें अन्यथा नहीं । क्योंकि ऐसी बाते अगर विस्तार से ही बात जाएँ तो ही उचित होता है । अब ध्यान से पढ़ें । वाल्मीकि रामायण, रामचरित …

Read More »

सप्तमुखी रुद्राक्ष का महत्व एंव सिद्ध करने की पूर्ण विधि । जरूर पढ़ें , महत्वपूर्ण जानकारी ।

माँ लक्ष्मी की स्थाई कृपा और धन आभव से छुटकारे इस रुद्राक्ष के बिना नहीं होता है | दुश्मनों को नष्ट करके, कारावास योग, काल सर्प योग, विषाक्तता, अकाल मृत्यु, शनि के नकारात्मक प्रभावों से बचाता है यह “सिद्ध रुद्राक्ष” | महाशिवपुराण के अनुसार “स्वर्ण आदि धातुओं की चोरी या …

Read More »

यदि धन की परेशानी खत्म नही हो रही तो करें, श्री स्वर्णाकर्षण भैरव साधना । जरूर पढ़ें ।

नन्दी जी ने मनुष्यो की दरिद्रता नाश करने के लिये महर्षि मार्कण्डेय जी से इस स्तोत्र का वर्णन किया था और कहा था कि जिनकी कुण्डली में धन भाव का सम्बन्घ क्रूर ग्रहों से है, अनेक अनुष्ठानों के बाद भी धन की परेशानी खत्म नही हो रही है तो उसे …

Read More »