Astro & Spritual

ज्योतिष पर शोधकार्य के विडियो और उनके links। Yogesh Mishra

मित्रो राजीव भाई के साथी कार्यकर्ता भाई योगेश मिश्र जी ने 20 वर्ष वकालत के क्षेत्र मे जहां एक तरफ भारत की तथाकथित आजादी,झूठा सविधान, transfer of power agreement आदि पर शोधकार्य किया इसके साथ-साथ उन्होने लुप्त हो रही वैदिक ज्योतिष ,पर भी बहुत ही गहरा शोधकार्य किया है ताकि …

Read More »

आज ज्योतिष मे नय शोध की आवश्यकता क्यों ।Yogesh Mishra

ॠषि कार्य को आगे बढाने हेतु आवाह्न ज्योतिषीय परिवर्तन के क्रमबध्य अध्ययन की आवश्यकता हैसूर्य एक साल में 59 विकला आगे बढ़ता है। ध्यारन दीजिए कि अगले साल से मकर सक्रांति भी 14 के बजाय 15 जनवरी को होगी। सभी ग्रहों की सूर्य के चारों ओर की चाल के अतिरिक्ता …

Read More »

ऊर्ध्वगमन साधना कैसे करें ? बहुत महत्वपूर्ण जानकारी । Yogesh Mishra

ऊर्ध्वगमन का अभ्यास शक्तिचालनी मुद्रा द्वारा शक्ति प्रवाह कैसे जाग्रत करें ?? कुण्डलिनी जागरण में मूलाधार से प्रसुप्त कुण्डलिनी को जागृत करके ऊर्ध्वगामी बनाया जाता है। उस महाशक्ति की सामान्य प्रवृत्ति अधोगामी रहती है। रति क्रिया में उसका स्खलन होता रहता है। शरीर यात्रा की मल मूत्र विसर्जन प्रक्रिया भी …

Read More »

क्या कोई सिद्ध पुरुष सटीक भविष्यवाणी कर सकता है । Yogesh Mishra

क्या कोई सिद्ध पुरुष सटीक भविष्यवाणी कर सकता है – भविष्यि एकदम अनिश्चिथत नहीं है। हमारा ज्ञान अनिश्चिजत है। भविष्यष का हमें कुछ भी दिखाई नहीं पड़ता इसलिए हम कहते हैं कि भविष्यत निश्चिरत नहीं है लेकिन भविष्यष में दिखाई पड़ने लगे तब हम ऐसा नहीं कहेंगे और ज्योनतिष भविष्यच …

Read More »

जानिए क्यों ? भगवान श्रीकृष्ण ही कलयुग में कामधेनु हैं । और उनके मंत्रो की उपयोगिता !

भगवान श्रीकृष्ण ही कलयुग में कामधेनु हैं ! मित्रो आज कल युग का प्रभाव इतना हो चुका है की अब न व्यक्ति में माँ गायत्री की शुद्ध साधना करने का समर्थ बचा है और न ही भगवान शिव की अटूट (सैंकड़ों वर्ष )तपस्या करने का पुरुषार्थ ऐसी स्थिती में भगवान …

Read More »

जानिए ।एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित क्यों कहा गया है । Yogesh Mishra

एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित क्यों कहा गया है चावल और जौ के रूप में महर्षि मेधा उत्पन्न हुए इसलिए चावल और जौ को जीव माना जाता है। जिस दिन महर्षि मेधा का अंश पृथ्वी में समाया, उस दिन एकादशी तिथि थी। इसलिए एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित …

Read More »

जानिए । मंत्रों के सही प्रयोग से मनुष्य कैसे निहित शक्तियां कैसे प्राप्त कर सकता है ।Yogesh Mishra

मंत्रों में निहित शक्ति एवं उसकी जाग्रति ईथर तत्व में शब्द प्रवाह के संचरण को रेडियो यंत्र अनुभव करा सकता है, पर ‘ईथर’ को उसके असली रूप में देखा जा सकना सम्भव नहीं गर्मी, सर्दी, सुख, दुःख की अनुभूति होती है, उन्हें पदार्थ की तरह प्रत्यक्ष नहीं देखा जा सकता। …

Read More »

जानिए मकर सक्रान्ति का वैज्ञानिक महत्व ,क्योंकि स्नान नहीं विज्ञान है मकर सक्रान्ति। Yogesh Mishra

मकर सक्रान्ति का पर्व आया और चला गया। नदी में एक डुबकी लगाई; खिचड़ी खाई और आगे बढ़ गये। क्या हमारे त्यौहारों का इतना ही मायने है अथवा इनका भी कोई विज्ञान है? मकर सक्रान्ति सूर्य पर्व है या नदी पर्व? हर सूर्य पर्व में नदी स्नान की बाध्यता है …

Read More »

जानिए ! ध्यान मे कितनी शक्ति है इससे क्या क्या पाया जा सकता है Yogesh Mishra

ध्यान की शक्ति साधक जैसे- जैसे ध्यान पथ पर आगे बढ़ते हैं उनकी संवेदनाएँ सूक्ष्म हो जाती है। इस संवेदनात्मक सूक्ष्मता के साथ ही उनमें संवेगात्मक स्थिरता- नीरवता व गहरी शान्ति भी आती है और ऐसे में उनके अनुभव भी गहरे, व्यापक, संवेदनशील व पारदर्शी होते चले जाते हैं। साधना …

Read More »

जानिए ! त्राटक साधना से दिव्य दृष्टि कैसे जागृति करें । Yogesh Mishra

त्राटक साधना से दिव्य दृष्टि कैसे जागृति करें मानवी विद्युत का अत्यधिक प्रवाह नेत्रों द्वारा ही होता है, इसलिए जिस प्रकार कल्पनात्मक विचार शक्ति को सीमाबद्ध करने के लिए ध्यान योग की साधना की जाती है, उसी प्रकार मानवी विद्युत प्रवाह को दिशा विशेष में प्रयुक्त करने के लिए नेत्रों …

Read More »