Untold Facts

मांसाहारी थे विवेकानंद ,गांजा भी पीते थे इसी कारण से हुई थी मृत्यु ! : Yogesh Mishra

स्वामी विवेकानन्द का जन्म १२ जनवरी सन्‌ १८६3 को कलकत्ता में हुआ था। इनका बचपन का नाम नरेन्द्रनाथ दत्त था। इनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त कलकत्ता हाईकोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे।यह 9 भाई बहन थे | सन् 1884 : पिता जी की मृत्यु के बाद घर का भार नरेन्द्र …

Read More »

1857 की क्रांति के बाद भारत के गद्दारों को इकट्ठा करके बनाई गई थी कांग्रेस पार्टी ,पढ़े पूरा लेख !

भारत के कुछ गद्दार राजघरानों के अंग्रेजों से मिल जाने के कारण 1857 की क्रांति विफल हो चुकी थी | देश को स्वतंत्र कराने वाले योद्धाओं को अंग्रेजों ने ढूंढ ढूंढ कर नगरों में सार्वजनिक रूप से जिंदा जला दिया था | चारों तरफ अंग्रेजो के खिलाफ भय और असंतोष …

Read More »

अंग्रेजी शासन व्यवस्था को भारत में लागू करवाने के लिए मनुस्मृति को बदनाम किया अंबेडकर ने ! Yogesh Mishra

डॉ भीमराव अंबेडकर ने अपनी जातिगत राजनीति को चमकाने के लिए ऐसा बताया कि मनुस्मृति ब्राह्मण  संरक्षित  तथा  ब्राह्मण पोषित है  जबकि यह सूचना गलत है मनु स्मृति का अध्ययन करने वाला कोई भी व्यक्ति स्पष्ट रुप से यह देख सकता है कि  मनु स्मृति में किसी भी अपराध के …

Read More »

राक्षस नहीं ब्रह्मा के वंश का देवयोनि के उच्चकुल का ब्राह्मण था रावण ! पढ़े पूरा लेख !

सामान्यतया यह माना जाता है के रावण दुष्ट प्रवृत्ति का राक्षस व्यक्ति था लेकिन यह सूचना गलत है रावण भगवान ब्रह्मा के वंश का एक देवयोनि का उच्चकुल का ब्राह्मण था जिसने अपने ज्ञान और पुरुषार्थ से भगवान शिव को प्रसन्न कर कुछ ऐसी शक्तियां प्राप्त करली थी जिनके प्रभाव …

Read More »

नेहरु कैसे आनंद भवन के मालिक बने जानिये वास्तविक सत्य ! Yogesh Mishra

गियासुदीन गाजी असल में एक सुन्नी मुसलमान थे 1857 की क्रांति से पहले आखिरी मुग़ल बादशाह बहादुरशाह जफर के साम्राज्य में शहर कोतवाल हुआ करते थे और 1857 की क्रांति के बाद, जब अंग्रेजों का भारत पर अच्छे से कब्ज़ा हो गया तो अंग्रेजों ने मुगलों का क़त्ल-ए-आम शुरू कर …

Read More »

जानिये:कुरान की कौन-कौन सी 24 आयातों को दिल्ली कोर्ट ने बताया समाज के लिए हानिकारक !

कुरान की चौबीस आयतें और उन पर दिल्ली कोर्ट का फैसला श्री इन्द्रसेन (तत्कालीन उपप्रधान हिन्दू महासभा दिल्ली) और राजकुमार ने कुरान मजीद (अनु. मौहम्मद फारुख खां, प्रकाशक मक्तबा अल हस्नात,रामपुर उ.प्र. 1966) की कुछ निम्नलिखित आयतों का एक पोस्टर छापा जिसके कारण इन दोनों पर भारतीय दंड संहिता की …

Read More »

भारत देश में ईसाई मत का आगमन और कारनामो का पर्दाफाश .Yogesh Mishra

भारत देश में ईसाई मत का आगमन कब हुआ। यह कुछ निश्चित नहीं हैं। एक मान्यता के अनुसार 52 AD में संत थॉमस का आगमन दक्षिण भारत में हुआ। उनके प्रभाव से ईसाई बने भारतीय अपने आपको सीरियन ईसाई कहते हैं। ईसाई इतिहासकारों की इस मान्यता में अनेक कल्पनायें समाहित …

Read More »

जानिये: भारतीय संविधान बदलने की जरूरत क्यों है ? और क्यों भारत की आज़ादी एक धोखा है ?? योगेश मिश्र !

भारत की आज़ादी एक धोखा है वर्ष 1992 में तीन वर्ष के अथक शोध के बाद मेरे द्वारा लिखी गई 320 पन्नों की एक पुस्तक “भारत की आज़ादी एक धोखा है” जिसे मैने पढ़ने के लिये “राजीव दीक्षित” को दिया था | इसी पुस्तक के अंशों की चर्चा अनेक व्याख्यानों …

Read More »

पिछले डेढ़ दशक में 2000 के करीब हो चुकी है भारतीय वैज्ञानिको की रहस्यमयी मौतें ! पढ़े ख़बर पढ़े !

आखिर कौन मार देता है भारत के होनहार वैज्ञानिकों को ? भारत विज्ञान के पथ पर आगे बढ़ रहा है, परंतु प्रगति का यह मार्ग लगता है खून से रंगा जा रहा है । पंद्रह वर्षो में देश के उच्च कोटि के वैज्ञानिको व विज्ञान से जुड़ी खोज संस्थाओं में …

Read More »

कुतुबमीनार वास्तव में हिन्दुओ का विष्णु संतभ है ,पढ़े पूरा इतिहास ,शेयर करें ! Yogesh Mishra

कुतुबुद्दीन ऐबक दुर्दांन्द लुटेरा शहाबुद्दीन मुहम्मद गौरी का अति महत्वाकॉँक्षी सैन्य गुलाम था | उसे बचपन में मुहम्मद गौरी को एक दास के रूप में बेच दिया गया था पृथ्वी राज चौहान द्वारा मोहम्‍मद गोरी को मारे जाने के बाद कुतुबुद्दीन ऐबक ने स्वयं को लाहौर में एक स्वत्रंत शासक …

Read More »