क्या RSS (संघ) भारत का इस्लामीकरण करना चाहता है ? जरूर पढ़ें बहुत ही महत्वपूर्ण ।

कृप्या धैर्य रख कर पूरा लेख ध्यान से पढ़ें ।

सर्वप्रथम भारत मे संघ की स्थिति और शक्ति जान लीजिये !

1. भारत भर में शाखा : 51335 (51 हजार 335)

2. भारत का कुल क्षेत्रफल : 32,87,263 sq.km (32 लाख 87 हजार 263)

3. अनुमानित स्वयसेवक संख्या :10 करोड़

4. प्रति वर्ष अनुमानित शाखा लगने की संख्या : 1,53,69,900 (करीब एक करोड़ 54 लाख)

5. RSS की उम्र : 90 वर्ष

RSS पर विशेष विश्लेषण

भारत मे sq.km मीटर पर संघ की कितनी लाखा लगती है तो उसके लिए भारत के कुल क्षेत्रफल को संघ की शाखा संख्या से भाग कर देंगे ।

sq.km par shakha =32,87,263  / 51335= 64.03

तो उत्तर आएगा 64 ।

इसका अर्थ ये हुआ भारत में हर 64 वर्ग किलो मीटर मैं एक शाखा लगती है ।
RSS का कहना है कि देशभर में संघ की सबसे अधिक शाखाए लगने वाला राज्य केरल है जहा 4500 शाखा लगती है । इसका विश्लेषण करे तो चोकाने वाले तथ्य सामने आते है ।

केरल राज्य का कुल क्षेत्रफल है = 38863

केरल मे प्रतिवर्ग किलोमीटर संघ की कितनी शाखाएँ लगती है ??
उसके लिए भी हम केरल के कुल क्षेत्रफल को संघ की केरल मे कुल शाखा से भाग करते है ।

शाखा प्रति वर्ग किलो मीटर =38863 / 4500 = 8.64
(केरल राज्य)                       

sq. km प्रति शाखा = 8.64

जहां एक ओर RSS का पुरे भारत में शाखा का कवरेज देखेगे तो हर 64 sq.km पर एक शाखा लगती है ।

पर केरल एक ऐसा राज्य है जहां RSS का कवरेज बढ़कर हर 8.64 sq.km पर एक शाखा जरूर लगती है ,

इसका यह अर्थ भी निकलता है की केरल ही ऐसा राज्य है जहा हर मोहल्ले में शाखा लगती है । हमें यहाँ जमीनी सच्चाई का भी विश्लेषण करना चाहिए ।

एक आकड़े के अनुसार देशभर में सबसे ज्यादा 6000 लवजिहाद के केस अकेले केरल राज्य मैं हुए है ।

अर्थात एक ऐसा राज्य जहा पर सबसे ज्यादा संघ की शाखा लगती है ।

अर्थात एक ऐसा राज्य जहा के हर मोहहले मैं एक संघ की शाखा लगती है

यदि केरल मे 6000 लव जेहाद के केस हैं तो संघ की प्रति शाखा पर कितने केस बने ??

6000 केस संख्या को 4500 संघ शाखा संख्या से भाग कीजिये ।

लवजिहाद केस प्रति शाखा =6000/4500 = 1.33 

इसका अर्थ यह हुआ की केरल मैं एक से ज्यादा 1.33 लड़की लवजिहाद का शिकार प्रति शाखा प्रति मोहल्ला बनती है ।

दुर्भाग्य से यह हाल उस राज्य का है जहा संघ सबसे ज्यादा सक्रीय है ।

इसका अर्थ यह भी निकलता है की केरल की तरह अगर पुरे देश मैं RSS की शाखाएँ सबसे अधिक हो जाये , फिर भी देश पर RSS का प्रभाव नहीं पड़ेगा । मित्रो यह RSS के हिंदुत्व के उद्देश्य पर बहुत बड़ा सवाल खड़ा करता है ।

यह तथ्य चीख चीख कर हमे मजबूर कर देते है की क्या RSS वास्तव मैं हिंदुत्व का काम कर रही है या छलावा ? उनकी सक्रियता पर सवाल खड़े हो जाते है या RSS भारत का इस्लामीकरण करना चाहती है क्या ?

मित्रो अपने दिल पर हाथ रखकर 2 मिनट के लिए पूरी तरह निष्पक्ष होकर अपनी आत्मा से ये प्रश्न पूछिये , यदि संघ जितना 90 वर्ष पुराना अगर कोई मुस्लिम संगठन होता ,और उस संघठन मे संघ की तुलना मे मात्र आधे ही स्वयं सेवी होते तो क्या उस संघटन ने भारत को कब का मुस्लिम राष्ट्र ना बना दिया होता ???

क्या बिना सरकार और मीडिया की चिंता किए सब मंदिर नहीं तोड़े जा चुके होते ??

परंतु RSS से एक राम मंदिर तक नहीं बना , हिन्दू राष्ट्र बनाना तो दूर आजादी के 70 मे 120 करोड़ गाय काट डाली गई परंतु संघ इतने बड़े संघठन के बावजूद गौ ह्त्या तक को ना रोक पाया

संघ के जिताये हुए और संघ के दिये संस्कारों से लैस इनके प्रधानमंत्री मोदी साहब
80 % गौ रक्षको को फर्जी बताते है ।

मित्रो आज का RSS अपनी दिशासे भटक चूका है । हो सकता है आपको स्वीकार करने मे कई वर्ष लग जाये क्योंकि देश के लोगो को नेहरू-गांधी परिवार का सत्य समझने समझने मे ही 70 साल लग गये ।लेकिन ये जान लीजिये संघ का मुख्य उद्देश्य मात्र हिन्दूओं को भ्रमित करके भाजपा के लिए हिन्दू वोट बैंक का जुगाड़ करना है । और उसके लिए फर्जी गौ प्रेम ,राष्ट्र प्रेम , फोकट की ब्यान बाजी हिन्दू राष्ट्र , राम मंदिर,लव जिहाद ये सब कार्य इसी एक मात्र उद्देशय की पूर्ति के लिए है । और संघ कभी भी दूसरे हिदुत्ववादी संघठन को खड़ा नहीं होने देगा ।

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

जानिए । भस्म लेपन के पीछे का वैज्ञानिक कारण और किस रोग के लिए कौन सी भस्म लगाएँ । Yogesh Mishra

भस्म वस्तुतः आयुर्वेद के इन्जेकशन हैं। भस्म रमाने के पीछे कुछ वैज्ञानिक तथा आध्यामित्क कारण …