किस व्यक्ति के लिये भगवान अनुपयोगी है : Yogesh Mishra

भारत में वैष्णव प्रपंच के दौरान भक्ति काल में फैलाये गये भ्रम के तहत समाज में यह अवधारणा विकसित हुई कि भगवान की पूजा करने से मनुष्य अपने जीवन में सब कुछ प्राप्त कर लेता है !

जबकि सनातन धर्म के ज्ञानमार्गी विचारक इस तथ्य को सिरे से अस्वीकार करते हैं ! उनका मत है कि सृष्टि कार्य कारण की व्यवस्था के तहत चल रही है ! इसमें भगवान की पूजा करने मात्र से कुछ भी नहीं बदला जा सकता है !

जब तक की आप साधना द्वारा अपने मानसिक तरंगों को इतना अधिक विकसित नहीं कर लेते कि आपका संपर्क ब्रह्मांडीय तरंगों से जुड़ जाये !

क्योंकि जब किसी भी मनुष्य, जीव, जंतु, पशु, पक्षी, वनस्पति, जो आज किसी भी योनि में है, उसकी मानसिक तरंगे इतना अधिक विकसित हो जाती हैं कि वह ब्रह्मांड तरंगों से अपना संपर्क स्थापित कर लें ! तब इसके बाद जीव में कालगमन का सामर्थ्य पैदा हो जाता है !

गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस के उत्तरकांड में वर्णित कागभुशुंडी जी इसका जीता जागता प्रमाण हैं ! जो कि एक निकृष्ट पक्षी योनि के जीव हैं ! उन्होंने भी अपनी मानसिक शक्तियों को विकसित कर रामायण काल की घटना को 11 बार और महाभारत कालीन घटना को 16 बार देखा था !

यह सामर्थ उन्होंने अपने मानसिक शक्तियों को विकसित करके प्राप्त किया था, न कि किसी भगवान के रहमों करम से अर्थात एक साधना विहीन व्यक्ति के लिये भगवान भी अनुपयोगी है !

मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि जब तक व्यक्ति अपनी मानसिक शक्तियों को विकसित नहीं कर लेता, तब तक उसके लिए भक्ति करना भी व्यर्थ का पुरुषार्थ है !
इस रहस्य को समझे बिना जो लोग अनावश्यक मंदिरों पर जाकर ढोलक मजीरा पीटते रहते हैं ! वह सभी अपने समय और ऊर्जा को व्यर्थ ही व्यय कर रहे हैं ! इसकी जगह इन्हें एकांत साधना करके अपनी मानसिक शक्तियों को विकसित करने पर विशेष ध्यान देना चाहिए !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

Check Also

धर्म के सभी प्रपंच धोखा हैं : Yogesh Mishra

ईश्वर ने कार्य कारण की व्यवस्था के तहत सृष्टि का निर्माण किया है ! जिसे …