कमलेश तिवारी के समर्थन मे वकील योगेश मिश्र ने सभी हिन्दुत्ववादी संघठनों को एक मंच पर एकत्रित किया । लेकिन संघी नहीं पहुंचे ।

मित्रो शायद फिर कुछ दिन बाद कोई ”हिन्दू” मुस्लिम तृष्टिकोण की राजनीति की बलि चढ़ जाएगा । लेकिन भागवत साहब ने तो जैसे कसम ही खा ली है , कि उन्हे हिन्दुओ को मात्र भाजपा का वोट बैंक बढ़ाने के लिए ही प्रयोग करना है ।
जब किसी राज्य मे चुनाव हो,तो भाजपा के नाम का कटोरा लेकर ,हिन्दुओ बहलाने-फुसलाने निकल पड़ो ,और चुनाव के बाद कोई हिन्दू जब समस्या मे हो तो उससे पल्ला झाड़ लो ।

मामला कितना संवेदनशील है आप समझिये ।

आजम खाँ ने ब्यान दिया संघी समसंलैंगिग होते है इसीलिए शादी नहीं करते ,
संघ वाले मात्र तमाशा देखते रहे , लेकिन हिन्दू महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी जी ने आजम खाँ को चिठी लिख ऐसा जवाब दिया । मुल्ले बौखला गए ।

मुल्लों के मौलाना ने कमलेश तिवारी का सिर काट कर लाने पर 50 लाख का ईनाम रख दिया , और उसे फांसी पढ़ चढ़ाने की मांग करने लगे,कमलेश तिवारी जी जेल मे बंद है । हर रोज यूपी मे कमलेश जी के विरुद्ध रैलियाँ हो रही है , कल यूपी के 19 शहरों मे रैली हुई , आज 1 लाख मुल्ले कमलेश जी के विरुद्ध प्रदर्शन किया ।

वकील योगेश मिश्र उनकी जमानत करवाने निकले तो पता चला सरकार ने कमलेश तिवारी जी पर rasuka लगा दिया ( 6 महीने तक जमानत नहीं) । लेकिन कमलेश जी पर 50 लाख का ईनाम रखने वाले मौलाना पर अभी तक कोई कारवाई नहीं हुई । कमलेश जी का कहना है मैंने जो कुरान मे पढ़ा वही चिठी मे लिखकर आजम खाँ को भेजा है ,या तो आजम खाँ पहले ये साबित करे कि कुरान मे ये सब बातें नहीं लिखी फिर मेरे विरुद्ध कोई कानूनी कारवाई हो , मैंने तो वही कहा जो मैंने कुरान मे पढ़ा ।,

कल वकील योगेश मिश्र ने यूपी सरकार की मुस्लिम तृष्टिकोण की राजनीति के विरुद्ध प्रेस कान्फ्रेंस की ,वकील योगेश मिश्र ने उस प्रेस कान्फ्रेंस मे शिवसेना ,VHP,हिन्दू महासभा, युवा वाहिनी, सभी बड़े हिन्दुत्ववादी सगठनों 30 साल ,राम मंदिर के मुद्दे के बाद पहली बार एक साथ एक ही मुद्दे पर, एक ही मंच पर ला खड़ा किया । लेकिन हैरानी की बात देखिये ,हिन्दुत्व के सबसे बड़े तथाकथित ठेकेदार ,संघ ने ना तो प्रेस कान्फ्रेंस मे आना उचित समझा , और ना ही इस मामले पर सहयोग का कोई आश्वासन दिया । इसे दोगलापन नहीं कहें तो क्या कहें ??

comments