Astro & Spritual

सफल तांत्रिक कैसे बनें ! महत्वपूर्ण लेख | Yogesh Mishra

तंत्र भारत की मूल संस्कृति का आधार है ! इसीलिए भारत के मौलिक आराध्य भगवान शिव के द्वारा जितने प्रकार के तंत्रों का वर्णन किया गया है, तंत्र का उतना वर्णन कहीं नहीं पाया जाता है ! तंत्र का सीधा-सीधा तात्पर्य व्यक्ति की उस अवस्था से है जहाँ पर व्यक्ति …

Read More »

नीलभ भद्राक्ष दिलाता है सर्वत्र सफलता |डिप्रेशन ,बुढ़ापा ,शत्रुहंता न्यायलय , चुनाव में विजय | Yogesh mishra

वीरभद्र के आंसुओं से हुई थी ‘नीलभ भद्राक्ष’ की उत्पत्ति ‘नीलभ भद्राक्ष’ पर गत पांच वर्षों से निरन्तर शोध और उसके परिणामों को देखने से ज्ञात हुआ है कि वर्तमान समय के नकारात्मक परिवेश में यह व्यक्ति के डिप्रेशन, हीनभावना, कार्यों में अरुचि, आत्मविश्वास की कमी, साहस व शक्ति का …

Read More »

कलयुग में सबसे सफल है “शाबर ज्योतिष” | Yogesh Mishra

भगवान शिव से बड़ा ज्योतिष और तंत्र का जानकार इस पृथ्वी पर कभी कोई पैदा नहीं हुआ ! यहां तक मैं कह सकता हूं कि रावण ने भी भगवान शिव की कृपा से ज्योतिष और तंत्र की जानकारी प्राप्त की थी ! लेकिन भगवान शिव के बराबर रावण भी ज्योतिष …

Read More »

आरोही ग्रह बतलाते हैं आपके जीवन में विकास का प्रतिशत | Yogesh Mishra

प्रायः ज्योतिष में कुण्डली दिखाते वक्त लोग मुझसे पूछते हैं कि मैं अपने जीवन में कितना विकास करूँगा ! आज में इसकी गणना का सिधान्त बतला रहा हूँ ! जैमिनी ज्योतिष में राहु और केतु को छोड़कर अन्य सभी सातों ग्रहों को उनके अंश, कला तथा विकला के आधार पर …

Read More »

साधना से सही-सही पूरा लाभ कैसे उठायें ! कब करें साधना | Yogesh Mishra

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष में चंद्रमा की गति के अनुसार महादशा की गणना की जाती है | प्रत्येक ग्रह की महादशा के अंदर अंतर्दशा, अंतर्दशा के अंदर प्रत्यंतर दशा, प्रत्यंतर दशा के अंदर सूक्ष्म दशा और सूक्ष्म दशा के अंदर प्राण दशा होती है | हमारा …

Read More »

डा अम्बेडकर दलितों के मध्य कभी भी लोकप्रिय नेता नहीं रहे ! Yogesh Mishra

डा अम्बेडकर को उनके जिन्दा रहते दलितों ने कभी भी उन्हें अपने नेता के रूप में नहीं माना ! इस तथ्य की सत्यता इस बात से आंकी जा सकती है कि 6 दिसंबर 1956 को 65 वर्ष की आयु में मरने से मात्र 4 वर्ष पूर्व 1952 में संपन्न हुए …

Read More »

भगवान भी ग्रहों के प्रभाव से मुक्त नहीं हैं | Yogesh Mishra

हरिवंश पुराण में लिखा है की द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने भाद्रपद की अष्टमी बुधवार रोहिणी नक्षत्र में अवतार लिया। भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत में अपने विराट स्वरूप का दर्शन कराते हुए अर्जुन को दिव्य ज्ञान देते हुए संदेश दिया कि शांति का मार्ग ही प्रगति एवं समृद्धि का …

Read More »

पंचांगुली कल्प साधना कैसे करें जानिये पूर्ण विधि | Yogesh Mishra

सभी की उत्सुकता का केन्द्र ‘भविष्य’ का ज्ञान अर्जित करने के लिए ‘पंचांगुली साधना’ सर्वश्रेष्ठ मानी गई है, जिसके माध्यम से अपने या किसी भी व्यक्ति के भूत, भविष्य और वर्तमान को आसानी से जाना जा सकता है। पंचांगुली साधना केवल पांच अंगुलियों और हस्तरेखा सिद्ध करने की साधना नहीं …

Read More »

महामृत्युंजय साधना की पूर्ण विधि | Yogesh Mishra

मत्यु एक ऐसा भयावह शब्द है, जिसका नाम सुनते ही शरीर में सिहरन दौड़ जाती है। किंतु यह भी एक शाश्‍वत् सत्य है कि मृत्यु एक दिन सभी को आनी है। लेकिन दुःखद स्थिति तब उत्पन्न हो जाती है जब किसी की अकाल मृत्यु होती है। यह अकाल मृत्यु किसी …

Read More »

क्या रावण के 10 सर थे ? जानिये रावण के 10 सर का सत्य | Yogesh Mishra

‘रावण’… दुनिया में इस नाम का दूसरा कोई व्यक्ति नहीं है। कुछ विद्वानों अनुसार रावण छह दर्शन और चारों वेद का ज्ञाता था इसीलिए उसे दसकंठी भी कहा जाता था। रावण का राज्य विस्तार : रावण ने सुंबा और बालीद्वीप को जीतकर अपने शासन का विस्तार करते हुए अंगद्वीप, मलयद्वीप, …

Read More »