Astro & Spritual

शक्तिशाली ही नहीं बलवान भी बनिये !! Yogesh Mishra

आजकल प्रायः बच्चे “शक्ति” को ही “बल” मान लेते हैं ! जबकि यह दोनों अलग-अलग हैं ! व्यक्ति “जिम” जाकर या व्यायाम करके शक्तिशाली तो बन सकता है किन्तु बलबान नहीं ! क्योंकि शक्ति का सीधा सम्बन्ध शाररिक क्षमता से है किन्तु बल का सम्बन्ध मन और बुद्धि से है …

Read More »

समाधि से मोक्ष की यात्रा कैसे करें | Yogesh Mishra

मोक्ष हर जीव का प्राकृतिक अधिकार है ! समाधि की समयातीत अवस्था ही मोक्ष है ! इस मोक्ष को ही जैन धर्म में कैवल्य ज्ञान और बौद्ध धर्म में निर्वाण कहा गया है ! योग में इसे समाधि कहा गया है ! इसके कई स्तर होते हैं ! मोक्ष एक …

Read More »

शेयर मार्किट से करोड़पति बनने के ग्रहयोग | Yogesh Mishra

आज के समय में शेयर मार्किट एक ऐसा विषय है जिसकी और हर एक व्यक्ति आकर्षित होता है और इसे धन लाभ अर्जित करने के लिए एक सुनहरे मार्ग के रूप में देखा जाने लगा है और अधिकांश व्यक्ति अपने पास उपस्थित धन का कुछ ना कुछ भाग शेयर मार्किट …

Read More »

जानिये फलित ज्योतिष के अद्भुत सूत्र | Yogesh Mishra

प्रायः लोग मुझसे पूछते हैं कि आप फलित ज्योतिष के कुछ अद्भुत सूत्र बतलाइये ! आज में अपने प्रिय जनों को वह सूत्र बतला रहा हूँ !जो मेरे स्व अनुभूत हैं और आपके लिये भी अकाट्य लाभकारी हैं ! 1.यदि किसी जातक के जन्मलग्न को एक से अधिक शुभ ग्रह …

Read More »

ज्योतिष में नये शोध की आवश्यकता क्यों है !! Yogesh Mishra

बतलाया जाता है कि ज्योतिष शास्त्रों में परम सत्य ईश्वर की वाणी संगृहीत की गई है ! हमारे ऋषि-मुनियों ने युगों तक गहन चिंतन कर इस ब्रह्मांड में उपस्थित ज्ञान के इन गूढ़ रहस्यों को संगृहीत किया और उपयोग किया था ! ज्योतिष के इन गूढ़ रहस्यों का अध्ययन कर …

Read More »

कुंडली का प्रथम भाव-लग्न से क्या-क्या पता चलता है ! Yogesh Mishra

ज्योतिष शास्त्र में बारह राशियों के आधार पर जन्मकुंडली के बारह भावों की रचना की गई है जिन्हें द्वाद्वश भाव कहते हैं ! आकाश मण्डल में बारह राशियों की तरह कुंडली में बारह भाव (द्वादश भाव) होते हैं ! जन्म कुंडली या जन्मांग जन्म समय की स्थिति बताती है ! …

Read More »

वेद निर्देश विज्ञान भी मानता है कि नदीतट, वनों एवं पहाड़ों पर ध्यान करना लाभकारी है ! Yogesh Mishra

वैदिक ज्ञान के वैज्ञानिक सम्बन्ध का एक उदाहरण ऋग्वेद के आठवें मण्डल के उपरोक्त मन्त्रा में मिलता है जिसका अर्थ है पर्वतों के समीप एवम् झरनों तथा नदियों के संगम के पास का प्राकृतिक वातारण मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में सहायक है तथा ज्ञानवर्धन करता है ! यह एक काफी …

Read More »

ध्यान की सृजनात्मक शक्ति से ही होगा नये विश्व का निर्माण !! Yogesh Mishra

हम लोगों ने दुनिया को योग का सूत्र दिया है, ध्यान का सूत्र दिया है ! ध्यान करने का मतलब है अपनी शक्ति से परिचित होना, अपनी क्षमता से परिचित होना, अपना सृजनात्मक निर्माण करना, अहिंसा की शक्ति को प्रतिष्ठापित करना ! जो आदमी अपने भीतर गहराई से नहीं देखता, …

Read More »

कृपया “समाज को विकृत करने वाले कुंडली परामर्श न लें !” Yogesh Mishra

आज सायंकाल मेरे यहां एक “जयसवाल साहब” अपनी “पजेरो गाड़ी” से कुंडली परामर्श हेतु आए थे ! उन्होंने अपने बेटे की कुंडली मेरे सामने परामर्श हेतु रखी जो कि “तुला लग्न” की कुंडली थी ! उसके पंचम भाव में मंगल और राहु एक साथ बैठे हुए थे ! वर्तमान समय …

Read More »

जानिये भाग्य ऊर्जा के लिये पयोधि मणि कैसे कार्य करती है Yogesh Mishra

मणि कोई हीरा, पन्ना, माणिक आदि पत्थर नहीं है । मणि में छिपे हुये सूक्ष्म शक्ति ही उसकी पहचान है ! जिसको परखना इतना सहज नहीं । हमारे ऋषियों, मुनियों, मनीषियों ने मणियों की इस दिव्य ऊर्जा को पहचान लिया था और उसका मनुष्य के लिए कैसे उपयोग किया जा …

Read More »