रावण के विश्वासघाती रिश्तेदार्रों की सूची : Yogesh Mishra

रक्ष संस्कृति का स्वामी रावण महापंडित था ! उसकी अपनी विशाल सेना थी ! जिसमें दूसरे लोक के सैनिक भी थे ! उसने कई युद्ध लड़े थे ! भगवान राम ने इन्द्र के उकसाने पर 300 से अधिक वैष्णव राजाओं की मदद से छल द्वारा उसकी हत्या कर दी थी ! उसके अपने नातेदार और रिश्तेदार उसके ज्ञान और तरक्की से जलते थे ! जिन्हें राम ने कुटिल नीति से अपनी तरफ मिला लिया था ! वही लोग रावण की हत्या में राम के सहायक बने ! इस सूची में उनका भी नाम है ! आओ अब हम रावण परिवार के बारे में जानते हैं !

रावण के माता पिता : ऋषि विश्वश्रवा ने ऋषि भारद्वाज की पुत्री इलाविदा से विवाह किया था जिनसे कुबेर का जन्म हुआ ! विश्वश्रवा की दूसरी पत्नी कैकसी से रावण, कुंभकरण, विभीषण और सूर्पणखा पैदा हुई थी !

रावण के भाई : कहते हैं कि रावण के छह भाई थे जिनके नाम ये हैं- कुबेर, विभीषण, कुम्भकरण, अहिरावण, खर और दूषण ! खर, दूषण, कुम्भिनी, अहिरावण और कुबेर रावण के सगे भाई बहन नहीं थे !

रावण की बहनें : रावण की दो बहने थीं ! एक सूर्पनखा और दूसरी कुम्भिनी थी जोकि मथुरा के राजा मधु राक्षस की पत्नी थी और राक्षस लवणासुर की मां थीं ! कुबेर को बेदखल कर रावण के लंका में जम जाने के बाद उसने अपनी बहन शूर्पणखा का विवाह कालका के पुत्र दानवराज विद्युविह्वा के साथ कर दिया !

रावण की पत्नियां : रावण की यूं तो तीन पत्नियां थीं ! रावण की पहली पत्नी का नाम मंदोदरी था जोकि राक्षसराज मयासुर की पुत्री थीं ! दूसरी का नाम धन्यमालिनी था और तीसरी का नाम याद आने पर लिखूंगा ! दिति के पुत्र मय की कन्या मंदोदरी उसकी मुख्‍य रानी थी जो हेमा नामक अप्सरा के गर्भ से उत्पन्न हुई थीं !

रावण के पुत्र और पुत्रियां : मंदोदरी से रावण को जो पुत्र मिले उनके नाम हैं- अक्षयकुमार, मेघनाद, महोदर, प्रहस्त, विरुपाक्ष, भीकम और वीर थे ! कहते हैं कि धन्यमालिनी से अतिक्या और त्रिशिरार नामक दो पुत्र जन्में जबकि तीसरी पत्नी के प्रहस्था, नरांतका और देवताका नामक पुत्र थे !

रावण के दादा-दादी : रावण के दादा ना नाम पुलस्त्य और दादी का नाम हविर्भुवा था !

रावण के नाना-नानी : राक्षसराज सुमाली की कैकसी नामक पुत्री से रावण का जन्म हुआ था ! रावण की नानी का नाम केतुमती था ! प्रहस्त, अकन्पन, विकट, कालिकामुख, धूम्राश, दण्ड, सुपार्श्व, सहादि, प्रधस और भास्कण आदि रावण के मामा थे और रांका, पुण्डपोत्कटा, और कुभीनशी उसकी मौसियां थीं !
अन्य रिश्तेदार :
मारीच और सुबाहू : यह दोनों लंका के राजा रावण के मामा थे और सुण्ड एवं ताड़का के पुत्र थे !
सरमा : सरमा विभिषण की पत्नी थी और उसकी बेटी का नाम त्रिजटा था !
वज्रज्वाला : कुंभकर्ण की पत्नी थीं !
सुलोचना : मेघनाद की पत्नी थीं !

रावण के विश्वासघाती रिश्तेदार ! जिन्होंने रावण के ऐश्वर्य से चिढ़ कर रावण जैसे परम तेजस्वी ब्राहमण की को धोख दिया !
महर्षि अगस्त : रावण के फूफा थे !
जामवंत : रावण के ताऊ थे ! अर्थात पिता के बड़े भाई !
विभीषण : रावण का सगा छोटा भाई
त्रिजटा : रावण की भतीजी ! विभीषण की बेटी ! सीता के साथ मिल कर रावण की हत्या का षडयंत्र रचने में सहायता की ! हनुमान को लंका में सीता से मिलवाया !
सुषेण : रावण का राज राजवैध तथा रावण के सरहज के पिता ! जिसने छ्पि-छिप कर राम के सैनिकों का इलाज किया !
सुग्रीव : रावण के साले थे ! सुग्रीव की बहन का रावण से विवाह हुआ था !
अंगद : रावण के साले बलि का पुत्र था ! जो रावण के राजवैध सुषेण का नाती था !
हनुमान : रावण के दामाद थे ! सूपनखा की बेटी से विवाह हुआ था !
नल-नील : रावण के वास्तु शिष्य थे ! जल स्तम्भन विद्या रावण से सीखी थी !

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

क्या हमारा धर्म ही हमें नष्ट कर रहा है : Yogesh Mishra

महाभारत के सिद्धांतों पर आधारित मनुस्मृति की वह उक्ति जो कि आठवें अध्याय के पन्द्रहवें …