Untold Facts

“शिव लिंग” खड़ा और “वैष्णव लिंग” पड़ा क्यों होता है !!

क्या आपने कभी विचार किया कि मंदिरों में स्थापित शिव लिंग की बिटिया “ऊर्ध्व दिशा” के रूप में सीधी आकाश की ओर खड़ी क्यों होती है और वैष्णव लिंग अर्थात सामान्य बोलचाल की भाषा में “शालिग्राम” की बिटिया लेटी हुई अवस्था में क्यों होती है ? “लिंग” का तात्पर्य शास्त्रों …

Read More »

जानिये संस्कृत भाषा का अनकहा सत्य | Yogesh Mishra

देव भाषा “संस्कृत” विदेशी भाषा है ! ज्ञान की अनादि देवी कही जाने वाली “माँ सरस्वती” ही एक मात्र ऐसी देवी हैं जिन्होंने ने कोई भी अस्त्र-शस्त्र धारण नहीं किये हैं और न ही कभी कोई युद्ध किया है ! वरना तो सभी देवी-देवताओं ने कोई न कोई अस्त्र-शस्त्र अवश्य …

Read More »

हनुमान जी बंदर नहीं थे | पढ़े पूरा सत्य | Yogesh Mishra

महर्षि गौतम की पत्नी अहल्या के साथ जब इंद्र ने छल किया, तब तक अहल्या को दो संताने प्राप्त हो चुकी थी ! उनमें से एक तो “शतानन्द” माता सीता के पिता राजा जनक के यहां राजपुरोहित घोषित हुये और दूसरी कन्या हनुमान की माता “अंजनी” जिनका विवाह सुमेरु पर …

Read More »

“हिन्दुओं” से “हिन्दुत्व” का अपरहण | Yogesh Mishra

अमेरिका की खुफिया एजेंसी सी0आई0ए0 द्वारा जारी “वर्ल्ड फैक्ट बुक” की रिपोर्ट के अनुसार “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिये प्रयास रह एक “हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन” है ! जिसे आरo एसo एसo भी कहते हैं ! विश्व हिंदू परिषद इसी आरo एसo एसo की एक अनुषांगिक …

Read More »

रावण की हत्या का एक अनकहा सत्य | अवश्य देखें | Yogesh Mishra

रावण “वैष्णव संस्कृति” का विरोधी क्यों था ! “यक्ष” बनाम “रक्ष” संस्कृति जैसा कि हमारे पुराण बतलाते हैं कि भगवान सूर्य का विवाह विश्वकर्मा की पुत्री संज्ञा से हुआ ! विवाह के बाद संज्ञा ने वैवस्वत और यम (यमराज) नामक दो पुत्रों और यमुना (नदी) नामक एक पुत्री को जन्म …

Read More »

कैसे मस्ती और अय्याशी के अड्डे बने “धार्मिक अखाड़े” !! Yogesh Mishra

आदि गुरू शंकराचार्य का जन्म आठवीं शताब्दी के मध्य में हुआ था ! तब भारतीय जनमानस की धार्मिक दशा और दिशा अच्छी नहीं थी ! भारत की धन संपदा से खिंचे आक्रमणकारी यहाँ से खजाना लूट लूट कर ले जा रहे थे ! कुछ भारत की दिव्य आभा से मोहित …

Read More »

”गोडसे” जैसों को आखिर क्यों हथियार उठाना पड़ता है | Yogesh Mishra

विश्व में जिस तरह “एडोल्फ हिटलर” को आज एक विलेन के रुप में देखा जाता है, उसी तरह भारत की राजनीतिक में राष्ट्रभक्त “नाथूराम गोडसे” को भी एक विलयन के रुप में देखा जाता है | प्रश्न यह है कि गोडसे जैसे लोग पैदा ही क्यों होते हैं ? स्पष्ट …

Read More »

गाँधीवध पर कांग्रेसियों द्वार ब्राह्मणों का सबसे बड़ा कत्लेआम ! Yogesh Mishra

मुस्लिम तुष्टीकरण की पराकाष्ठ पर पहुँचे गाँधी का 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे चित्तपावन ब्राह्मण ने राष्ट्र हित में नई दिल्ली के बिरला भवन में गोली मारकर वध कर दिया ! फिर क्या था गाँधी के अहिंसक गांधीवादी अनुयाईयों ने 31 जनवरी को दिन भर दंगे की योजना बनायी …

Read More »

रावण में स्वयं अपनी हत्या करवाने के लिए करवाई थी रामेश्वरम की स्थापना | Yogesh Mishra

रावण जैसा श्रेष्ठ ब्राहमण ही अपनी मृत्यु का संकल्प अनुष्ठान अपने शत्रु श्री राम को पूर्ण करवा सकता है ! बाल्मीकि रामायण और तुलसीकतृ रामायण में इस कथा का वर्णन नहीं है, पर तमिल भाषा में लिखी महर्षि कम्बन की ‘इरामावतारम्’ मे यह कथा है। श्री रावण केवल शिव भक्त, …

Read More »

26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस | Yogesh Mishra

भारत में 26 जनवरी खास महत्व रखता है। इसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था यानि देश में कानून के राज की शुरुआत हुई। 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व का दर्जा प्राप्त है। हर साल इस दिन को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। भारत अपने गणतंत्र दिवस के …

Read More »