सात्विक भोजन का महत्व ,क्यों करना चाहिए सात्विक भोजन । Yogesh Mishra

सात्विक भोजन
आयुः – सात्विक – बलारोग्य – सुख – प्रीति – विवर्धनाः ।
रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्या आहाराः सात्त्विकप्रियाः ॥

आयु, बल, आरोग्य, सुख और प्रीति को बढ़ाने वाले रसीले, चिकने स्थिर, देर तक ठीक रहने वाले एवं हृदय के लिये हितकारी – ऐसा भोजन सात्त्विक जनों को प्रिय होता है । अर्थात् जिस भोजन के सेवन से आयु, बल, वीर्य, आरोग्य आदि की वृद्धि हो, जो सरस, चिकना, घृतादि से युक्त, चिरस्थायी और हृदय के लिये बल शक्ति देने वाला है, वह भोजन सात्विक है ।

जैसा खावे अन्न, वैसा होवे मन,

जैसा पीवे पानी, वैसी होवे वाणी।’’

सात्विक भोजन हमारे जीवन को बदल देते हैं। इससे हमारा मन एकाग्रचित होता है। मन को अपने वश में रखने की शक्ति मिलती है। अत्यधिक क्रोध, मन को विचलित होने से बचाता है। सात्विक आहार की प्राण के साथ तुलना की गई है। बहुत से लोगों का मानना है कि तामसिक और राजसिक भोजन अधिक-से-अधिक शक्तिवर्धक होते हैं। वास्तविकता ये है कि ये केवल शरीरवर्धक, हष्ट-पुष्ट रखने में सहायक होते हैं वहीं सात्विक भोजन हमे पूरी तरह ऊर्जा देते हैं और निरोगी रखते हैं। सात्विक आहार सुंदर और आकर्षक काया प्रदान करती है।

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

आध्यात्मिक दिव्य ऊर्जा का क्षय कैसे हो जाता है ? क्षय होने से बचाने के उपाय !

आध्यात्मिक दिव्य ऊर्जा के क्षय का सबसे प्रमुख कारण मन के सभी छोटे और बड़े …