रासायनिक हथियार और जैविक हथियार में अंतर : Yogesh Mishra

रासायनिक हथियारों से आशय ऐसे हथियारों से है जिनमें इंसानी शरीर पर हमला करने वाले विषेलै एवं रासायनिक तत्व शामिल होते हैं !

रासायनिक हथियारों की कई श्रेणियां हैं ! कुछ रासायनिक हथियार ऐसे होते हैं जिनमें इंसान का दम घोंटने वाली रासायनिक गैसें जैसे फोज़जीन होती हैं ! यह इंसान के फेंफड़े और श्वसन तंत्र पर हमला करते हैं जिससे पीड़ित व्यक्ति की सांस न ले पाने की वजह से मौत हो सकती है !

कुछ रासायनिक हथियारों जैसे मस्टर्ड गैस लोगों की त्वचा जलाकर उन्हें अंधा कर देती है ! सबसे ख़तरनाक रासायनिक हथियार नर्व एजेंट्स होते हैं जो पीड़ित व्यक्ति के दिमाग और उसके शरीर के बीच संबंध पर हमला करते हैं !

इन रासायनिक हथियारों की बहुत छोटी-सी मात्रा भी इंसान के लिए घातक साबित हो सकती है ! नर्व एजेंट वीएक्स की 0.5 मिलिग्राम से भी कम मात्रा एक व्यस्क को मारने के लिए काफ़ी होती है !

युद्ध के दौरान यह सभी तथाकथित रासायनिक एजेंट्स आर्टिलरी शेल, बमों और मिसाइलों के ज़रिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं !

लेकिन केमिकल वीपन्स कन्वेंशन 1997 के तहत इनका प्रयोग प्रतिबंधित है ! रूस समेत दुनिया के कई देशों ने इस कन्वेंशन पर अपने हस्ताक्षर किए हैं !

दुनियाभर में इन हथियारों के अवैध इस्तेमाल पर नज़र रखने और इनके प्रसार को रोकने की दिशा में काम करने वाली संस्था ‘ऑर्गनाइज़ेशन फ़ॉर द प्रोहिबिशन ऑफ़ कैमिकल वीपन्स’ का ऑफ़िस नीदरलैंड के हेग शहर में स्थित है !

इससे पहले इन हथियारों का इस्तेमाल प्रथम विश्व युद्ध, अस्सी के दशक में हुए ईरान-इराक़ युद्ध और हाल ही में सीरियाई सरकार द्वारा विद्रोहियों के ख़िलाफ़ किया गया है !

इसी तरह अगर जैविक हथियारों की बात करें तो वह रासायनिक हथियारों से काफ़ी अलग होते हैं ! जैविक हथियारों से आशय इबोला जैसे ख़तरनाक पैथोजन या विषाणु को हथियार के रूप में इस्तेमाल करने से है !

यहां पर समस्या यह है कि आम लोगों को ख़तरनाक पैथोजेन से बचाने की दिशा में काम करने और उन्हें हथियार के रूप में तैयार करने में काफ़ी बारीक अंतर है !

शीत युद्ध ख़त्म होने के बाद जब वैज्ञानिक इस कार्यक्रम को ख़त्म करने के लिए पहुंचे, यहां उन्हें पता चला कि सोवियत संघ ने एंथ्रैक्स, स्माल पॉक्स समेत अन्य बीमारियों के पैथोजेन को व्यापक स्तर पर तैयार किया है ! दक्षिणी रूस के एक द्वीप पर जीवित बंदरों पर इन पैथोजेन की टेस्टिंग भी की गई थी !

यही नहीं, इस एजेंसी ने एंथ्रैक्स के स्पोर्स को लंबी दूरी वाली इंटर-कॉन्टिनेंटल मिसाइलों के वॉरहेड में लोड किया हुआ था जिनका निशाना पश्चिमी देशों के शहर थे !

गैर-पारंपरिक हथियार की फेहरस्ति में एक डर्टी बम भी है जो कि एक सामान्य बम होता है लेकिन उसके आसपास रेडियोधर्मी तत्व मौजूद रहते हैं ! इसे आरडीडी यानी रेडियोलॉजिकल डिस्पर्सल डिवाइस के नाम से जाना जाता है ! यह एक परंपरागत बम हो सकता है जिसमें रेडियोधर्मी आइसोटोप जैसे केसियम 60 और स्ट्रोनटियम 90 हो सकते हैं !

शुरुआत में इस बम के कारण उतनी ही मौतें होंगी जितना किसी सामान्य बम से होगा ! लेकिन यह बम लंदन के किसी उपनगर जितनी बड़ी जगह को हफ़्तों तक रहने लायक नहीं छोड़ेगा ! तब तक जब तक इलाक़े को पूरी तरह फिर से संक्रमण मुक्त न किया जाए !

डर्टी बम एक मनोवैज्ञानिक हथियार जैसा है ! जिसे एक समुदाय में दहशत फैलाने और मनोबल तोड़ने के लिए बनाया गया है ! अब तक युद्ध में इस बम का ज़्यादा इस्तेमाल नहीं देखा गया है !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

आज मांग नहीं बल्कि ब्राण्ड करता है कीमत को नियंत्रित : Yogesh Mishra

अर्थशास्त्र का सामान्य सिधान्त है कि किसी वस्तु की कीमत मांग और पूर्ति के संतुलन …