राम के वनवास की असली वजह माता कैकयी नहीं थीं : Yogesh Mishra

कश्यप ऋषि और उनकी पत्नी दिति के पुत्र असुर राजा मय की पत्नी हेमा का इंद्र द्वारा अपहरण कर लेने के बाद असुर राजा मय के अपने बेटी मंदोदरी की इंद्र की वासना से रक्षा के लिये उसका विवाह महान पराक्रमी शिव भक्त रावण के साथ कर दिया था !

कुछ समय बाद जब रावण विश्व विजय करके लौटा तो लंका में राजकीय उत्सव के अवसर पर रावण ने मंदोदरी को खुश नहीं देखा ! रावण द्वारा इसका कारण पूंछने पर मंदोदरी ने अपनी माता के इंद्र के कब्जे में होने का कारण बतलाया !

तब रावण ने अपने बड़े बेटे के नेतृत्व में एक सेना भेज कर इंद्र को गिरफ्तार करावा लिया और अपनी सास हेमा को आजाद करावा कर लंका बुलावा और अपने ससुर असुर राजा मय को सौंप दिया ! बाद में माफ़ी मांगने पर इंद्र को भी कुछ प्रतिबन्धों की शर्तों के साथ छोड़ दिया !

जिस कारण इन्द्र ने अपने को बड़ा अपमानित महसूस किया और रावण की हत्या का षडयंत्र रचा ! जिसमें विश्वामित्र, भरद्वाज और अगस्त ऋषि जैसे प्रभावशाली लोगों का साथ लिया और एक षडयंत्र रचा कि रावण के परम मित्र दशरथ के पुत्र राम द्वारा रावण की हत्या करावा दी जाये !

क्योंकि इंद्र यह जानता था कि रावण ने मित्रता में दशरथ को यह अभय दान दिया था कि वह कभी भी अपनी ओर से दशरथ या उनके वंश पर आक्रमण नहीं करेगा ! इसी अवसर का लाभ उठा कर विश्वामित्र ने दशरथ पुत्र राम के हाथों रावण की नानी सुकेतु यक्ष की पुत्री जिसका कि अयोध्या के समीप स्थित ताड़ के वन पर स्वामित्व था ! अत: इसका नाम वैष्णव ने तड़का रख दिया ! उसका तथा उसके पुत्र तथा रावण के मामा सुबाहु का वध करावा दिया !

और इस घटना के बाद राजा जनक के यहाँ रखा हुआ भगवान शिव का महर्षि दाधीच की हड्डियों से बना हुआ ब्रह्मास्त्र शस्त्र पिनाक को नष्ट करावा दिया और जबरजस्ती राजा जनक के बेटी का विवाह राम से करावा दिया ! जिससे भविष्य में शिव भक्त परशुराम के क्रोध से राम को जनक का दामाद होने का हवाला देकर बचाया जा सके !

किन्तु जब इंद्र का सारा षड्यंत्र दशरथ के समझ में आया, तब सुरक्षा कारणों से दशरथ ने भरत और शत्रुघन को ननिहाल भेज कर चुपचाप राम के राज्याभिषेक की तैय्यारी करावा डाली ! किन्तु इसकी सूचना अपने जासूसों से इंद्र को हो गयी ! तब जब इंद्र को अपने भविष्य की सारी योजना फेल होते देख इंद्र ने अपने सबसे विश्वसनीय शिष्य भरद्वाज से दशरथ की हत्या और राम के वनवास का षडयंत्र रचवाया !

तब भरद्वाज ऋषि ने वशिष्ठ के शिष्य अभ्रेतु मुनि के माध्यम से आनव प्रजाति की रानी कैकयी जो अवध की रक्षा मंत्री और कुशल योद्धा भी थीं ! जिनसे दशरथ ने इस शर्त पर विवाह किया था कि उनका पुत्र ही अयोध्या का राजा बनेगा ! तब इंद्र द्वारा दशरथ द्वारा राम के गुप्त राज्याभिषेक की सूचना रानी कैकयी को उसके महिला विशेष सचिव मंथरा द्वारा एक गुप्त पत्र के जरिये से महर्षि वशिष्ठ के शिष्य अभ्रेतु मुनि के माध्यम से दी !

जिस पत्र को पढ़ते ही कैकयी कोप भवन में चली गयी ! जहाँ कैकयी के निर्देश पर राम को 14 वर्ष का वनवास और भरत का राज्याभिषेक की घोषणा दशरथ द्वारा करवाई गयी और राजा दशरथ अति क्रोध और अवसाद में वापस अपने श्वेत भवन आ गये !

जहाँ पर पहले से राज दशरथ को जहर देने के लिये पानी में इंद्र द्वारा धीमा जहर घुलवा दिया कर रखवा दिया गया था ! फिर इंद्र द्वारा रखवाये गये धीमे जहर को धोके से पीकर छ: दिन बाद राजा दशरथ की अकस्मात मृत्यु हो गयी ! जिसे कहा गया कि श्रीराम के वियोग में राजा दशरथ ने अपने पुत्र वियोग में दम तोड़ दिया ।

क्योंकि इंद्र यह जानता था कि दशरथ के जिन्दा रहते राम कभी भी रावण की हत्या नहीं कर पाएंगे ! शेष फिर कभी ……

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

आज मांग नहीं बल्कि ब्राण्ड करता है कीमत को नियंत्रित : Yogesh Mishra

अर्थशास्त्र का सामान्य सिधान्त है कि किसी वस्तु की कीमत मांग और पूर्ति के संतुलन …