वैदिक कर्म विपाक ग्रंथ बताता है की कौन सा पाप करने से कौन सा रोग होता है । Yogesh Mishra

कर्म विपाक (कर्म परिणाम ग्रन्थ )
मनुष्य को विवध रोगों की प्राप्ति का कारण बतलाता है


रोग शरीर में हों या मन में इनके बीज अचेतन मन की परतों में छुपे होते हैं। आयुर्वेद को व्यवस्थित रूप देने वाले महर्षि चरक के अनुसार पिछले जन्मों के पाप इस जन्म में रोग बन कर हमें सताते हैं। आयुर्वेद की इस मान्यता को विज्ञान अभी तक मिथ ही मानता था पर अब इस बात को विज्ञान द्वारा जांचा परखा और सही पाया जाने लगा है। आयुर्विज्ञान के हजारों साल के अनुभव बताते हैं कि रोग की जड़ें अचेतन मन में छुपी हुई है। अचेतन मन क्या है ?

सामान्य उत्तर है हमारा बीता हुआ कल। उस कल की अनुभूतियों में कटुता, संताप. पछतावा या कोई कसक है, तो वह रोग-शोक के रूप में प्रकट होती है। आध्यात्मिक चिकित्सकों का कहना है कि बीते हुए कल की सीमाएँ वर्तमान से लेकर बचपन तक ही सिमटी नहीं हैं। इसके दायरे में हमारे पूर्वजन्म की अनुभूतियाँ भी आ जाती हैं। हम अक्सर लोगों को यह कहते हुए सुनते हैं कि मैंने कभी कोई बुरा काम नहीं किया फिर भी मैं बीमारियों से परेशान हूँ. ऐसा मेरे साथ क्यों हो रहा हैं. क्या भगवान बहुत कठोर और निर्दयी है ?

पहली बात तो हमें ये समझ लेनी चाहिए कि हमारे कार्यों और भगवान का कोई सम्बन्ध नहीं है इसलिए हमें अपनी परेशानियों और पीडाओं के लिए ईश्वर को दोषी नहीं मानना चाहिए. यदि आप सद्गुणी हैं तो आप जीवन में संपन्न और सुखी रहते हैं. यदि आप लोगों को सताते हैं या पाप कर्म करते हैं तो आप पीड़ित होते हैं और तरह तरह की बीमारियाँ कष्ट देती हैं.

हमारे कार्यों का हम पर निश्चित रूप से असर होता है. कभी हमारे कर्मों का प्रभाव इसी जन्म में तो कभी अगले जन्म में मिलता है लेकिन मिलता जरुर है. आशय है कि हम अपने कर्मों के प्रभाव से कभी मुक्त नहीं होते यह बात अलग है कि इसका प्रभाव तुरंत दिखाई न दे . इस लेख में इस बात का विवरण प्रस्तुत किया जा रहा है कि हमारे पाप हमें किस रूप में लौटकर मिलते हैं और पीड़ित करते हैं. यदि आप किसी रोग से पीड़ित है तो ये समझें कि आपने अवश्य ही पूर्व जन्म में कोई पाप किया है. आपके पाप कर्म द्वारा होने वाली कुछ बीमारियों को नीचे दिया जा रहा है.
1. लोगों का धन लूटने वाले – गले की बीमारी से पीड़ित होते हैं.

  1. पढ़े लिखे ज्ञानी जन के प्रति दुर्भावना से काम करने वाले व्यक्ति को – सिरदर्द की शिकायत रहती है.
  2. हरे पेड़ काटने वाले और सब्जियों की चोरी करने में लगे व्यक्ति अगले जन्म में शरीर के अन्दर – अल्सर (घाव)से पीड़ित होते हैं.
  3. झूठे और धोखाधड़ी करने वाले लोगों को – उल्टी की बीमारी होती है.
  4. गरीब लोगों का धन चुराने वाले लोगों को – कफ और खांसी से कष्ट होता है.
  5. यदि कोई समाज के श्रेष्ठ पुरुष (विद्वान) की हत्या कर देता है तो उसे – तपेदिक रोग होता है.
  6. गाय का वध करने वाले – कुबड़े बनते हैं.
  7. निर्दोष व्यक्ति का वध करने वाले को – कोढ़ होता है.
  8. जो अपने गुरु का अपमान करता है उसे – मिर्गी का रोग होता है.
  9. वेद और पुराणों का अपमान और निरादर करने वाले व्यक्ति को बार बार – पीलिया होता है.
  10. झूठी गवाही देने वाले व्यक्ति – गूंगे हो जाते हैं.
  11. पुस्तकों और ग्रंथो की चोरी करने वाले व्यक्ति – अंधे हो जाते हैं.
  12. गाय और विद्वानों को लात मरने वाले व्यक्ति अगले जन्म में – लगड़े बनते हैं.
  13. वेदों और उसके अनुयायियों का निरादर करने वाले व्यक्ति को – किडनी रोग होता है.
  14. दूसरों को कटु वचन बोलने वाले अगले जन्म में हृदय रोग का कष्ट होता है.
  15. जो सांप, घोड़े और गायों का वध करता है वह – संतानहीन होता है.
  16. कपड़े चुराने वालों को – चर्म रोग होते हैं.
  17. परस्त्रीगमन करने वाला अगले जन्म में – कुत्ता बनता है.
  18. जो दान नहीं करता है वह – गरीबी में जन्म लेता है.
  19. आयु में बड़ी स्त्री से सहवास करने से – डायबिटीज़ रोग होता है.
  20. जो अन्य महिलाओं को कामुक नजर से देखता है उसकी – आंखें कमजोर होती हैं.
  21. नमक चुराने वाला व्यक्ति – चींटी बनता है.
  22. जानवरों का शिकार करने वाले – बकरे बनते हैं.
  23. जो ब्राह्मन होकर भी गायत्री मंत्र नहीं पढ़ता वो अगले जन्म में – बगुला बनता है.
  24. जो ज्ञानी और सदाचारी पुरुषों को दिए गए अपने वचन से मुकर जाता है वह अगले जन्म में – गीदड़ बनता है.
  25. जो दुकानदार नकली माल बेचते हैं वे अगले जन्म में – उल्लू बनते हैं.
  26. जो अपनी पत्नी को पसंद नहीं करते वो – खच्चर बनते है.
  27. जो व्यक्ति अपने माता पिता और गुरुजनों का निरादर करता है उसकी – गर्भ में ही हत्या हो जाती है.
  28. मित्र की पत्नी से सम्बन्ध बनाने की इच्छा रखने वाला अगले जन्म में – गधा बनता है.
  29. मदिरा का सेवन करने वाला व्यक्ति – भेड़ियाँ बनता है.
  30. जो स्त्री अपने पति को छोड़कर दूसरे पुरुष के साथ भाग जाती है वह अगले जन्म में – घोड़ी बनती है.

पूर्व जन्म में किये गए पापों से उत्पन्न रोगों को दूर करने के लिए दवाइयां, दान, मंत्र, जप, पूजा, अनुष्ठान करने चाहिए. तथा गलत काम करने से भी बचना चाहिए. तभी हम पूर्वजन्म कृत पापों के दुष्प्रभाव से मुक्त हो सकेगें.

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

कौन सा ग्रह टेकनिकल, इंजीनियरिंग, कंप्यूटर और डॉक्टरी शिक्षा में देता है सफलता | Yogesh Mishra

राहु कब सब कुछ देता है और कब सब कुछ छीनता है | राहु-केतु छाया …