जानिए अर्धनारीश्वर स्वरूप क्या है : Yogesh Mishra

सनातन ऋषि कहते हैं कि प्रकृति की व्यवस्था के तहत पुरुष आधा ही है और स्त्री भी समग्र नहीं है बल्कि वह भी प्रकृति के आधे अंग की ही स्वामिनी है ! यही मैथुनिक सृष्टि का आधार है !

न तो अकेला पुरुष इस सृष्टि को चला सकता है और न ही अकेली स्त्री इस सृष्टि को चला सकती है ! इस सृष्टि के क्रम में निरंतरता बनाए रखने के लिए स्त्री और पुरुष दोनों के होने की समान आवश्यकता है !

इसी तरह आपका चेतन मन पुरुष है, जो विचारशील, उद्यमी तथा साहसी है और आपका अचेतन स्त्री है ! जो समस्त ऊर्जा का आधार है ! जब तक आपका विचार आपकी उद्यमिता और आपका साहस अवचेतन मन की ऊर्जा से नहीं जोड़ता है ! तब तक यह कभी भी अपने विचार और पुरुषार्थ को फलित नहीं कर सकते हैं !
यही मनुष्य के जीवन में सफल होने या असफल रह जाने का रहस्य है !

जब तक साधना में चेतन और अचेतन ऊर्जा का मिलन नहीं होता है, तब तक किसी भी व्यक्ति को सिद्धियां प्राप्त नहीं हो सकती हैं ! क्योंकि प्रकृति इन दोनों ही ऊर्जाओं के सहयोग से संचालित होती है !

अर्थात व्यक्ति की समग्रता तभी पूर्ण हो सकती है ! जब वह अवचेतन मन को चेतन मन से जोड़कर प्रकृति के रहस्य पूर्ण ऊर्जाओं से जुड़ जाता है ! तभी उसे अनमोल सिद्धियां प्राप्त होती हैं !

यहीं से योग फलित होता है और व्यक्ति अपने जीवन में सफल हो सकता है ! आज हम लोग या तो पूरी तरह से अपने विचार और पुरुषार्थ पर आश्रित हो गये हैं या फिर साधना पक्ष में जाकर अवचेतन ऊर्जाओं पर आश्रित हो गये हैं ! यही हमारे योग भ्रष्ट होने का कारण है ! इसी वजह से लंबे समय तक प्रयास करने के बाद भी हम सफल नहीं हो पाते हैं !

अतः भगवान शिव अपने अर्धनारीश्वर स्वरूप को प्रकट करके यह बतलाना चाहते हैं कि चेतन मन की ऊर्जा का जब तक अवचेतन मन के साथ संयोग नहीं होगा, तब तक व्यक्ति के जीवन में न तो सांसारिक सफलता उसे प्राप्त होगी और न ही आध्यात्मिक सफलता ही उसे प्राप्त होगी ! यही भगवान शिव के अर्धनारीश्वर स्वरूप का रहस्य है ! यह ज्ञान अन्य कोई भी भगवान नहीं देता है !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

आत्मविकास से कतराता समाज : Yogesh Mishra

शोषण का नाम लेते ही आरक्षण भोगी वर्ग तत्काल कटोरा लेकर खड़ा हो जाता है …