जानिए । यज्ञ मे स्वाहा का उच्चारण क्यों किया जाता है । क्या अर्थ है स्वाहा का ? Yogesh Mishra

स्वाहा का उच्चारण क्यों?

किसी भी शुभ कार्य में हवन होते हमने देखा है कि अग्नि में आहूति देते वक्त स्वाहा का उच्चारण किया जाता है।
स्वाहा शब्द का अर्थ है सु+आ+हा
सु-अर्थात सुरो यानि अच्छे लोगों को

आ-अर्थात अग्नि का प्रज्जवलन कर

हा- अर्थात दिया गया आहार ।

उसमें औषधियुक्त (खाने योग्य घी मिश्रित) की आहूति देकर क्रम से देवताओं के नाम का उल्लेख कर उसके पीछे स्वाहा बोला जाता है
अर्थात मैं अमुक ईश्वर को आहुति प्रदान करता हूँ ।यजुर्वेद में स्वा हा शब्दा का बहुत प्रयोग हुआ है क्योंईकि‍ इसमें यज्ञ करने की रीति‍ बतायी गयी है.

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

कौन सा ग्रह टेकनिकल, इंजीनियरिंग, कंप्यूटर और डॉक्टरी शिक्षा में देता है सफलता | Yogesh Mishra

राहु कब सब कुछ देता है और कब सब कुछ छीनता है | राहु-केतु छाया …