बौद्ध धर्म का दुर्भाग्य पूर्ण विभाजन : Yogesh Mishra

बुद्ध के निर्वाण के 100 वर्ष बाद ही आपसी कलह में बौद्ध धर्म दो सम्प्रदायों में विभक्त हो गया – महायान बनाम हीनयान ! यह दोनों बौद्ध धर्म की ही शाखाएं थीं ! हीनयान निम्न वर्ग के लिये और महायान उच्च वर्ग के लिये !
हीनयान एक व्यक्तिवादी धर्म था ! इसका शाब्दिक अर्थ है बौद्ध धर्म निम्‍न मार्ग ! यह मार्ग केवल बौद्ध भिुक्षुओं के लिये ही था ! हीनयान संप्रदाय के लोग समाज परिवर्तन अथवा समाज सुधार के विरोधी थे ! यह बौद्ध धर्म के प्राचीन आदर्शों का ज्‍यों त्‍यों बनाए रखना चाहते थे ! हीनयान संप्रदाय के सभी ग्रंथ पाली भाषा मे लिखे गये हैं !

हीनयान बुद्धजी की पूजा भगवान के रूप मे न करके बुद्धजी को केवल महापुरुष मानते हैं ! हीनयान की साधना अत्‍यंत कठोर थी तथा वह बौद्ध भिक्षु ही अपने जीवन में अपना सकता था ! हीनयान संप्रदाय श्रीलंका, बर्मा, जावा आदि देशों मे फैला हुआ था ! बाद मे यह संप्रदाय भी दो भागों मे विभाजित हो गया- वैभाष्क एवं सौत्रान्तिक ! वैभाष मत की उत्‍पत्ति कश्‍मीर मे हुई थी तथा सौतांत्रिक मत तंत्र. मंत्र. बौद्ध कर्मकाण्ड आदि से संबंधित है ! सौतांत्रिक संप्रदाय का कर्मकाण्डीय सिद्धांत मंजू श्री मूल कल्‍प और गुहा सामाज नामक ग्रंथों में मिलता है !

महायान संप्रदाय समाज के सामान्य गृहस्थों के लिए और सामाजिक उन्नति का मार्ग निर्दिष्टक था ! महायान भक्ति प्रधान मत है ! इसी मत के प्रभाव से बुद्ध की मूर्तियों का निर्माण आंरभ हुआ था ! इसी मत ने बौद्ध धर्म में बोधिसत्व की भावना का समावेश किया !
यह भावना, सदाचार, परोपकार, उदारता आदि से सम्पन्न मत था ! अर्थात रुढ़िवादी नहीं था बल्कि विकसित आधुनिकता में विश्वास रखने वाला मत था ! इस मत के अनुसार ‘बुद्धत्व’ की प्राप्ति सर्वोपरि लक्ष्य है, न कि व्यर्थ के तंत्र मंत्र अनुष्ठान कर्मकाण्ड आदि !
इस मत ने बौद्ध विहारों में बौद्ध भिक्षुओं की तरह अय्याशी की जगह समाज में आधुनिक तरह से बौद्ध दर्शन के प्रचार प्रसार पर विशेष बल दिया !
आंबेडकर साहब इसी महायान संप्रदाय के समर्थक थे ! जिसने बुद्ध के महा निर्वाण के बाद बौद्ध विचार धारा को पूरी दुनियां में फैलाने का काम किया !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

Check Also

बौद्ध धर्म की उत्पत्ति और विकास में सहायक लोगों का परिचय : Yogesh Mishra

बौद्ध धर्म कभी धर्म प्रचारक आंदोलन के रूप में विकसित नहीं हुआ था ! किन्तु …