ध्यान प्रक्रिया में बदलाव की जरुरत क्यों है : Yogesh Mishra

ध्यान प्रक्रिया हर देश काल परिस्थिती में अलग अलग समय पर अलग अलग रहीं हैं ! आधुनिक मनुष्य का मन मस्तिष्क प्राचीन काल से अलग है ! आज का बदला हुआ चित्त एक बहुत ही नयी घटना है !

कोई भी परंपरागत विधि अपने वर्तमान रूप में प्रयुक्त नहीं हो सकती क्योंकि आधुनिक मनुष्य पहले कभी था ही नहीं, अत: सभी पुरातन विधियां आज की परिस्थियों में असंगत हैं !

उदाहरण के तौर पर, शरीर इतना बदल गया है, इतना व्यसनी हो चुका है कि कोई प्राचीन विधि अब के मनुष्य के लिये सहायक नहीं हो पा रही है ! आज वातावरण पूरी तरह से बनावटी हो चुका है !

हवा, पानी, समाज, रहन-सहन कुछ भी सहज नहीं है ! आप बनावटीपन में ही जन्मते हैं और उसी में बड़े होकर मर जाते हैं ! इसीलिये आज कल ध्यान की प्राचीन विधियां वर्तमान मनुष्य के लिए हानिकारक सिद्ध हो रहे हैं ! क्योंकि मनुष्य के मन का गुणधर्म अब बदल चुका है !

पतंजलि के युग में मनुष्य के व्यक्तित्व का केंद्र मस्तिष्क नहीं बल्कि नाभी के कम्पन से निकला हुआ विचार हुआ करता था ! जो सीधा सीधा प्रकृति के सहयोग से सामने वाले व्यक्ति के विचारों को बदलने का सामर्थ रखता था ! किन्तु अब ऐसा नहीं है !

उस समय विचार का चक्र मस्तिष्क से नहीं बल्कि नाभि अर्थात मणिपुर चक्र से संचालित होता था ! जो ईश्वर द्वारा जन्म से पूर्व ही दिया गया विचार केंद्र है ! अब यह तल नाभि से दूर आधुनिक मस्तिष्क हो गया है ! इसीलिये आज सविधायें और तकनीकी विकसित हो जाने के बाद भी अब किसी का प्रभाव किसी दूसरे के मन को नहीं बदल पा रहा है !

अब आधुनिक जीवन शैली में प्रतिष्पर्धा के कारण मस्तिष्क में उत्पन्न अत्यधिक विचार ही ध्यान में मनुष्य की परेशानी का कारण हैं ! जबकि ध्यान के लिये मस्तिष्क को विचारों से पूरी तरह खाली होना चाहिये ! तभी व्यक्ति का विचार और मानसिक शक्तियों पर पूरा नियंत्रण होता है !

हमारे अत्यधिक तीव्र गति से चलते हुए विचार ही हमारी मानसिक शक्तियों को कमजोर करते हैं ! जिस वजह से हम संकल्प लेने के बाद भी न तो प्रकृति का सहयोग ही प्राप्त कर पाते हैं और न ही अपने पुरुषार्थ से उस संकल्प को पूरा कर पाते हैं !

इसमें किसी और का दोष नहीं है ! देश, काल, परिस्थिति, आधुनिकता, तकनीकी, विज्ञान, परिवेश, राजनीति, अर्थव्यवस्था, सामाजिक व्यवस्था आदि बहुत से पहलू इसके लिये जिम्मेदार हैं ! जो इस समय मनुष्य के ध्यान साधना में अवरोधक बन रहे हैं !

वैसे ध्यान भी कोई एक-दो दिन में सीखे जाने का विषय नहीं है ! इसके लिए जन्म जन्मांतर के संस्कारों की ऊर्जा कार्य करती है !

इसलिए आज आवश्यक हो गया है कि प्राचीन ध्यान पद्धतियों के स्थान पर वर्तमान समय की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आधुनिक ध्यान पद्धतियां विकसित की जाये ! जो मनुष्य के जन्म जन्मांतर के संस्कारों के सापेक्ष हो !

तभी ध्यान से मनुष्य का कल्याण होगा अन्यथा ध्यान के नाम पर समय बर्बाद करने के अतिरिक्त और कुछ भी हाथ नहीं लगेगा ! इस संदर्भ में सनातन ज्ञान पीठ ने ब्रह्मास्मि क्रिया योग पर बहुत से व्यावहारिक शोध किये हैं और उसके आश्चर्यजनक परिणाम देखने को मिलते हैं !
मैं आपसे आशा करता हूं कि आप भी ब्रह्मास्मि क्रिया योग पद्धति से ध्यान साधना करिये और अपने जीवन को सफल बनाइये !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

आपके अंतिम निर्णय पर भगवान का भी अधिकार नहीं है : Yogesh Mishra

कहने को तो अर्जुन भगवान श्रीकृष्ण के सखा अर्थात मित्र थे ! पर इसके अलावा …