समर्पण की ऊर्जा का रहस्य : Yogesh Mishra

समर्पण दो शब्दों से मिल कर बना है ! ‘सम’ और ‘अर्पण’ अर्थात ‘अपने मन का सम्पूर्ण अर्पण’ ! मन का मतलब चाहतें, आकांक्षायें, इच्छायें आदि ! समर्पण स्वयं में एक संपूर्ण शब्द है ! कुछ लोग अध्यात्म में इसे ‘आत्म-समर्पण’ भी कहते हैं ! लेकिन दोनों का अर्थ समान ही है !

क्योंकि तब व्यक्ति, व्यक्ति न हो कर ‘आत्मा’ से सम्बोधित होता है ! शरणागति, श्रद्धा, विश्वास, प्रेम यह सब समर्पण के ही प्रकार हैं ! यहाँ एक बात अवश्य जानने वाली है कि घुटना टेकना समर्पण नहीं है ! हारने का नाम समर्पण नहीं है, कमज़ोर हो जाने का नाम समर्पण नहीं है ! समर्पण का अर्थ है, ‘’मैंने अपनी कमज़ोरी को समर्पित किया; अब मेरे में मात्र बल शेष है !’’

सम्पूर्ण समर्पण के भाव को ही ‘प्रेम’ कहते हैं ! यदि यह सवाल उठे कि आखिर सच्चा प्यार क्या है? तो जवाब में हजारों तर्क दिए जा सकते हैं, जो सभी अपनी जगह सही भी होंगे, मगर यदि इन तर्कों का सार निकाला जाए तो वह है ‘संपूर्ण समर्पण भाव’; जहाँ मेरे ‘मैं’ का नाश हो जाता है और सब कुछ तेरा ‘तूँ’ शेष रहता है ! अर्थात मेरा व्यक्तित्व अब मेरा नहीं रह जाता !

विशुद्ध प्रेम वही है जो प्रतिदान में कुछ पाने की लालसा नहीं रखता ! आत्मा की गहराई तक विद्यमान आसक्ति ही सच्चे प्यार का प्रमाण है ! वास्तव में तो प्यार तभी तक प्यार है जब तक उसमें विशालता व शुद्धता कायम है !

यदि एक व्यक्ति केवल दूसरे एक व्यक्ति से प्रेम करता है और अन्य सभी व्यक्तियों में उसकी रुचि नहीं है, तो उसका प्रेम, प्रेम न होकर उसके अहं का विस्तार मात्र होता है !

यह कहना कि ‘मैं प्यार करता हूँ’ का सच्चा अर्थ यह है कि ‘मैं उसके माध्यम से पूरी दुनिया और पूरी जिंदगी से प्यार करता हूँ !

स्त्री-पुरुष के मध्य प्रेम होने के सात चरण होते हैं, पहला आकर्षण, दूसरा ख्याल, तीसरा मिलने की चाह, चौथा साथ रहने की चाह, पांचवा मिलने व बात करने के लिये कोशिश करना, छठवां मिलकर इजहार करना, सातवा साथ जीवन जीने के लिये प्रयत्न करना व अंत में जीवनसाथी बन जाना !

अगर इनमें से एक भी चरण दोनों अथवा दोनों में से किसी एक के द्वारा भी पूरे नहीं किए गए तो वह प्रेम नहीं होता ! माता-पिता, भाई-बहन, व्यक्ति विशेष आदि के मध्य भी प्रेम का ही धागा होता है लेकिन स्त्री-पुरुष वाले प्रेम से अलग !

उसी प्रकार स्त्री-पुरुष के मध्य प्रेम समाप्त होने के भी सात चरण होते हैं, पहला एक दूसरे के विचार व कार्यो को पसंद ना करना, दूसरा झगड़े, तीसरा नफ़रत करना, चौथा एक दूसरे से दूरी बनना, पंचवा संबंध खत्म करने के लिये विचार करना, छठवां अलग होने के लिये प्रयत्न करना, सातवाँ अलग हो जाना !

समर्पण क्यों ? जब तक समर्पण नहीं होता, तब तक सच्चा सुख नहीं मिलता ! सच्चे सुख की प्राप्ति के लिये समर्पण किया जाता है ! लेकिन यहां जानने योग्य बात यह है कि समर्पण यदि कपटपूर्ण है तो सुख भी दिखावा मात्र ही होगा ! समर्पण से ही परमात्मा सहाय बनते हैं !

मीरा ने समर्पण यह कहकर कि ‘मेरो तो गिरधर गोपाल बस दूसरो न कोई’ किया तो मीरा को पिलाया जाने वाला जहर परमात्मा ने अमृत में बदल दिया ! द्रौपदी ने हार थक कर जब अंत में केवल और केवल श्रीकृष्ण को समर्पण किया तो भगवान श्रीकृष्ण ने उनका चीर हरण नहीं होने दिया और द्रौपदी की लाज की रक्षा की ! द्रौपदी का कुछ काम नहीं आया, काम आया केवल भगवान के प्रति समर्पण !

राजा जनक ने अष्टावक्र ऋषि के प्रति समर्पण किया तो राजा जनक को तत्क्षण ज्ञान हो गया ! रामकृष्ण परमहंस के प्रति बालक नरेंद्र का ! जो कि बाद में स्वामी विवेकानंद के नाम से जाने गए, समर्पण हुआ तो काली मां उनके हृदय में प्रकट हो गई ! महात्मा बुद्ध को कोई भी शास्त्र बुद्ध न बना पाया ! अंत में बालक सिद्धार्थ परम सत्ता के प्रति एक वट वृक्ष के नीचे बैठे पूर्णरूपेण समर्पित हुए तो वे तत्क्षण बुद्ध हो गये और यही बालक सिद्धार्थ कालांतर में महात्मा बुद्ध कहलाये !

समर्पण के लिये ऐसा बिल्कुल नहीं है कि आप अपनी आँखें बंद कर लीजिये, अपने कान बंद कर लीजिये और कोई प्रश्न मत पूछिये, बल्कि, इसका अर्थ है संसार को ईश्वर दृष्टि से देखिये, अपने अंतरात्मा की आवाज़ पर ध्यान दीजिये, और धैर्यपूर्वक ईश्वर के उत्तर को समझने का प्रयास कीजिये ! सच्चा समर्पण तो हर जाँच या परीक्षा को सहन करता है ! वास्तव में समर्पण से ही पूर्णता मिलती है !

इसमें एक शर्त यह भी है कि यदि कोई व्यक्ति किसी गुरु के समक्ष पूर्ण समर्पण कर रहा है ! तो उस स्थिति में उस गुरु को भी अपने शिष्य के प्रति ठीक उसी तरह उदार होना चाहिये ! जैसे ईश्वर जीवो के साथ उदारता का व्यवहार करता है क्योंकि समर्पण से प्राप्त ऊर्जा ईश्वरीय ऊर्जा ही है ! गुरु तो मात्र ईश्वर के प्रतिनिधि के रूप में बस सिर्फ एक माध्यम है ! इसलिए समर्पण के ऊर्जा के एहसास के लिये गुरु का निश्चल और उदार होना भी उतना ही आवश्यक है !

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

जीवनी ऊर्जा का जीवन की सफलता में क्या महत्व है : Yogesh Mishra

किसी भी चीज को प्राप्त करने के लिये हमको उसका सही तरीका अपनाना होगा, अन्यथा …