क्या बौद्ध धर्म का आधार स्त्रियोचित था ! : Yogesh Mishra

प्रकृति के द्वारा ही पुरुष चित्त और स्त्री चित्त के चेतना के केन्द्र भी भिन्न-भिन्न होते है ! पुरुष मूलत: मष्तिष्क केन्द्रित है ! उसका सारा जोर बौद्घिक है ! वह हर चीज को तर्क वितर्क के आधार पर ही तोलता है ! उसके तर्क करने में भाव की गुंजाइश नहीं रह पाती है ! तर्कवान व्यक्ति ही संकल्प आसानी से कर पाता है ! इसलिये तर्कवान व्यक्ति कठोर भी होता है ! यही व्यक्ति का पुरुष-चित है !

पुरुषों में बहुत कम लोग ही स्त्रियोचित होते हैं और स्त्रियों में बहुत कम लोग ही स्त्रियाँ पुरुषोंचित मिलेंगी ! दूसरी तरफ स्त्री में स्त्रियोचित की चेतना का तल भावना प्रधान होता है ! प्रेम की मात्रा और भाव की मात्रा स्त्री में प्रगाढ़ होती है ! समर्पण उसमें सहज होता है ! होश को खोने में वह स्वयं के प्रति भी बेसुध हो जाती हैं ! यही स्त्री के आयाम बौद्ध धर्म के विकास में सहायक थे ! क्योंकि बुद्ध स्वयं भावना प्रधान स्त्रियोचित गुणों से समपन्न थे !

इस स्थिति में यदि बुद्ध समाज को मात्र स्त्रियोचित भाव प्रधान साधना की दीक्षा दे पाते थे ! जिसमें समाज स्त्रियाँ की तरह ही राग और वासना का ही ताना-बाना ही बुन पाता था ! पुरुषों का बौद्ध के इस स्त्रियोचित राग की में वासना में गिरना सहज ही था ! अत: बुद्ध को अपने दर्शन के प्रचार के लिये ऐसी व्यवस्था करनी पड़ी कि जिसमें पुरुष भी स्त्रियोचित भाव के साथ तो रहे पर वासना में न गिरे पर स्त्री का राग और प्रेम भी पोषित होता रहे !

क्योंकि बुद्ध जानते थे कि बिना राग और सौन्दर्य प्रदर्शन के स्त्री रह ही नहीं सकती है ! अत: बौद्ध विहारों में स्त्रियों के संकल्प मार्ग में ठील थी ! अर्थात उनके लिये नियम पुरुषों के मुकाबले ज्यादा कठोर नहीं थे ! शायद कालांतर में यही बौद्ध विहारों के विकृति होने कारण था !

पुरुष व स्त्री के वासना के तल भी भिन्नता है ! पुरुष की वासना का रूप जहां शारीरिक रूप से बहिर्मुखी और क्रियाशील है ! वहीं स्त्री की वासना का रूप शारिरिक रूप से गैर क्रियाशील है पर तीव्र अंतर्मुखी जरुर है ! इसलिये बुद्ध ने अपने स्त्रियोचित गुणों के कारण साधना में स्त्री पर भरोसा करना ज्यादा उचित समझा ! बजाय पुरुष के ! यह वैसे बड़ी चकित करने वाली बात है !

बुद्ध की निगाह में स्त्री का पुरुष के प्रति ज्ञान, शारीरिक, मानसिक, भावनागत व चेतनागत अद्भुत है ! इस प्राकृतिक व्यवस्था के हिसाब से यहां बुद्ध ने बौद्ध विहारों में स्त्री पर भरोसा कर के पुरष से ज्यादा स्त्री को सम्मान दिया था ! बुद्ध ने पुरुष की वासनागत कमजोरी को समझा था और उसका अपने धर्म प्रसार के लिये बौद्ध विहारों में खुल कर प्रयोग किया !

बुद्ध यह जानते थे कि पुरुष का चित्त होने के कारण पुरुष अहंकारी होता है ! जिसे वह स्वभिमान कहते थे ! अपने बौद्ध विहारों में इस स्वभिमान को पोषित करने के लिये वह जीतोड़ कोशिश करते रहे हैं ! जब एक स्त्री पुरुष के चरणों में छुकर उसे देवता का सा दर्जा दे देती है ! तब पुरुष में अपना पुरुष होने का स्वभिमान जाग्रत होता है ! और उसका आकर्षण बार-बार उस स्त्री की तरफ बढ़ता है ! जो उसे सम्मान दे रही होती है !

यह पर्याप्त था ! पुरुषों को बौद्ध विहार में रोके रखने के लिये ! जिससे बौद्ध विहारों में निरंतर पुरुषों की संख्या बढ़ती चली गई ! अब पुरुष की नजर में बौद्ध विहार में साधारण सौन्दर्य की स्त्रीयां भी पुरुषों के आकर्षण का केन्द्र थी ! जिससे स्त्री पुरुष दोनों को ही साथ रहने में बल मिलता था !

किसी विशेष स्त्री को आकर्षित करने के लिये बौद्ध विहार का विशेष पुरुष विशेष उपलब्धियां हासिल करता था ! जिससे बौद्ध विहार के साथ-साथ बौद्ध दर्शन भी पूरे आर्यावर्त में तेजी के साथ फल फूल रहा था ! शायद इसलिये बुद्ध ने अपने धर्म प्रसार के लिये स्त्री पर ज्यादा भरोसा किया है और बौद्ध विहार के नियम ज्यादातर स्त्रियोचित बनाये थे

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

बौद्ध धर्म की उत्पत्ति और विकास में सहायक लोगों का परिचय : Yogesh Mishra

बौद्ध धर्म कभी धर्म प्रचारक आंदोलन के रूप में विकसित नहीं हुआ था ! किन्तु …