Health Tips

जानिए क्यों आयुर्वेद ज्योतिष ज्ञान के बिना अधूरा है !! Yogesh Mishra

आयुर्वेद और ज्योतिष शास्त्र का चोली-दामन का संबंध रहा है, पूर्वकाल में हर वैद्य आयुर्वेद के साथ ग्रह-नक्षत्रों का भी अच्छा खासा ज्ञान रखता था ! औषधि किस मुहूर्त में ग्रहण करनी है, और किस नक्षत्र में रोगी को सेवन करना आरम्भ करनी है? रोग किस नक्षत्र में आरम्भ हुआ …

Read More »

नक्षत्रों के अनुसार रोग से कष्ट एवं उसका उपचार : Yogesh Mishra

1- अश्विनी नक्षत्र – जातक को वायुपीड़ा, ज्वर, मतिभ्रम आदि से कष्ट. उपाय : दान पुण्य, दीन दुखियों की सेवा से लाभ होता है ! 2- भरणी नक्षत्र – जातक को शीत के कारण कम्पन, ज्वर, देह पीड़ा से कष्ट, देह में दुर्बलता, आलस्य व कार्य क्षमता का अभाव ! …

Read More »

डिप्रेशन रोग नहीं एक भावनात्मक मानसिक अवस्था है !! : Yogesh Mishra

सभी जानते हैं वर्तमान युग भागदौड़ और कशमकश भरा है ! आज के युग में हर इंसान मशीन के जैसे जीवनयापन करने के लिये मजबूर है ! कारण हर इंसान की आकांक्षाएं और महत्वकांशायें इतनी हो गई हैं कि, वह किसी भी तरह से अपने आप से संतुष्ट नहीं हो …

Read More »

नेत्र रोग होने पर भगवान सूर्यदेव की रामबाण उपासना है ! Yogesh Mishra

सभी नेत्र रोगियों के लिए चाक्षुषोपनिषद् प्राचीन ऋषि मुनियों का अमूल्य उपहार है ! इस गुप्त धन का स्वतंत्र रूप से उपयोग करके अपना कल्याण करें ! शुभ तिथि के शुभ नक्षत्रवाले रविवार को इस उपनिषद् का पठन करना प्रारंभ करें ! पुष्य नक्षत्र सहित रविवार हो तो वह रविवार …

Read More »

कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है ! Yogesh Mishra

सोना सोना एक गर्म धातु है ! सोने से बने पात्र में भोजन बनाने और करने से शरीर के आन्तरिक और बाहरी दोनों हिस्से कठोर, बलवान, ताकतवर और मजबूत बनते है और साथ साथ सोना आँखों की रौशनी बढ़ता है ! चाँदी चाँदी एक ठंडी धातु है, जो शरीर को …

Read More »

भारतीयों को रोगी बनाने के लिये अंग्रेजों ने शुरू किया था “समुद्री नमक” Yogesh Mishra

स्वस्थ्य रहना है तो खाइये “सेंधा नमक” पांच हजार साल पुरानी आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में भी भोजन में सेंधा नमक के ही इस्तेमाल की सलाह दी गई है ! भोजन में नमक व मसाले का प्रयोग भारत, नेपाल, चीन, बंगलादेश और पाकिस्तान में अधिक होता है ! आजकल बाजार में …

Read More »

ध्यान की सृजनात्मक शक्ति से ही होगा नये विश्व का निर्माण !! Yogesh Mishra

हम लोगों ने दुनिया को योग का सूत्र दिया है, ध्यान का सूत्र दिया है ! ध्यान करने का मतलब है अपनी शक्ति से परिचित होना, अपनी क्षमता से परिचित होना, अपना सृजनात्मक निर्माण करना, अहिंसा की शक्ति को प्रतिष्ठापित करना ! जो आदमी अपने भीतर गहराई से नहीं देखता, …

Read More »

“अवसाद” (डिप्रेशन) का ज्योतिषी के पास कोई इलाज नहीं है ! Yogesh Mishra

ग्रह दोष के कारण किसी व्यक्ति का अप्रत्याशित समस्याओं में फंस जाना एक अलग विषय है ! और अप्रत्याशित समस्याओं के आ जाने के कारण अवसाद अर्थात डिप्रेशन में चला जाना एक दूसरा विषय है ! प्रायः लोग इन दोनों को एक साथ जोड़ कर देखते हैं और अवसाद अर्थात …

Read More »

जानिये कैसे समस्त रोगों की औषधि आपके ही अंदर है ! Yogesh Mishra

मनुष्य की शारीरिक संरचना शायद इस प्रकृति की सबसे जटिल संरचना है ! प्रकृति ने मनुष्य को इस तरह से निर्मित किया है कि वह अपने शरीर और जीवन की रक्षा के लिये उसे किसी भी वाह्य संसाधन की आवश्यकता नहीं है ! किंतु मनुष्य ने अपने आलस्य और विलासिता …

Read More »

जानिये मंत्र चिकित्सा से भी रोगों का निवारण संभव है ! Yogesh Mishra

मंत्र चिकित्सा का आधार संकल्प और आवेश है ! जब तक प्रयोजक के मन में प्रबल तथा साधिकार इच्छा और उसका पुनः पुनः आवर्तन नहीं होगा तब तक वह मानसिक शक्ति के प्रयोग द्वारा दूसरे पर अपना प्रभाव नहीं डाल सकेगा ! परन्तु इस मानसिक प्रयोग को शीघ्र तथा अधिक …

Read More »