जानिये : कुंडली के कुछ भयावह योग : Yogesh Mishra


कुंडली के द्वितीय भाव मे नीच के सूर्य हो तो कुंडली मे चाहे जितने भी शुभ योग अथवा राजयोग क्यूँ न हो, वे सभी निष्फल हो जायेंगे

कुंडली के द्वितीय भाव मे राहु किसी भी राशि का क्यूँ न हो, ऐसा राहु कभी भी धन का आगमन जातक के जीवन मे नही होने देगा, और यदि धनागमन हो भी गया तो वो धन अपने जाने का रास्ता स्वतः ही बना लेगा

कुंडली के द्वितीय भाव मे शनि (किसी भी राशि का) हो और अष्टम मे सूर्य हो, तो ऐसा जातक महान दरिद्रता का उपभोग करता है और इसके विपरीत सूर्य द्वितीय भाव मे किसी भी राशि के हो और कही से भी शनि ऐसे सूर्य को देख ले तो भी जातक महान दरिद्रता का उपभोग करता है

4) कुंडली के द्वितीय भाव मे बुध हो और अष्टम मे चंद्रमा हो तो ऐसा जातक धनहीन होता है
सांपों के श्रापः इस श्राप की जानकारी कुंडली में राहू की स्थिति से मिलती है। इसकी वजह से व्यक्ति को संतान प्राप्ति में परेशानी होती है, सांप से डर लगता है तथा उसे सांप के डंसने का खतरा भी होता है। यह श्राप पिछले जन्म में सांप को मारने के कारण लग जाता है। इस श्राप के बारे में जानने के लिए पांचवें घर को देखा जाता है।

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

कौन सा ग्रह टेकनिकल, इंजीनियरिंग, कंप्यूटर और डॉक्टरी शिक्षा में देता है सफलता | Yogesh Mishra

राहु कब सब कुछ देता है और कब सब कुछ छीनता है | राहु-केतु छाया …