तर्पण मात्र अपने पूर्वजों से जुड़ी प्रक्रिया नहीं है : Yogesh Mishra

यह शास्त्रीय अवधारणा है कि तर्पण में पूर्वजों को अर्पित किया जाने वाले जल में दूध, जौ, चावल, तिल, चंदन, फूल आदि से हमारे पूर्वज तृप्त होकर हमें आशीर्वाद देते हैं !

इसके लिये कुशा के सहारे से जल की छोटी-सी अंजलि मंत्रोच्चार पूर्वक इस भाव के साथ पात्र में डाली जाती है कि मैं इस जल को अपने पूर्वजों को दे रहा हूँ ! जिससे हमारे पूर्वज तृप्त होंगे !

जबकि यह जलांजलि श्रद्धा, कृतज्ञता, सद्भावना, प्रेम, शुभकामनायें आदि मात्र भावनाओं का विषय है ! इसका पित्रों से कोई लेना देना नहीं है ! क्योंकि आत्मा रूपी पितृ या तो मृत्यु के बाद पुन: शरीर धारण कर चुके होते हैं या फिर अनंत ब्रह्मांड के कारण शरीर में स्थापित हो जाते हैं ! जहां उन्हें कोई भूख प्यास आदि नहीं सताती है ! जब तक कि वह प्रेत योनि में न चले जायें !

और यदि पितृ प्रेत योनि में चले गये हैं, तो भी आपके किसी भी औपचारिक कर्मकांड से उनका कोई भला नहीं होता है ! क्योंकि जो पितृ प्रेत योनि में गया है ! वह पितृ निश्चित रूप से ऐसी कामना और वासना में फंसा हुआ है ! जिसे कोई भी सांसारिक व्यक्ति तृप्त नहीं कर सकता है ! यह सारा खेल आपको आपके पूर्वजों से भावनात्मक रूप से जोड़े रहने का है ! इसका किसी भी आत्मा से कोई संबंध नहीं है !

फिर भी विभिन्न धर्म ग्रंथों में इसकी पैरवी बड़े जोर शोर से की जाती है और यह भी बतलाया जाता है कि हमारी पितृ तर्पण श्राद्ध प्रक्रिया में 6 तरह के तर्पण कृत्य आते हैं ! उनके नाम इस प्रकार हैं देवतर्पण, ऋषितर्पण, दिव्यमानवतर्पण, दिव्यपितृतर्पण, यमतर्पण और मनुष्यपितृतर्पण ! इनके पीछे भिन्न-भिन्न धार्मिक दार्शनिक पक्ष भी बतलाये गये हैं !

देवतर्पण के अंतर्गत जल, वायु, सूर्य, अग्नि, चंद्र, विद्युत एवं अवतारी ईश्वर अंशों की मुक्त आत्माएं आती हैं, जो मानव कल्याण हेतु निःस्वार्थ भाव से प्रयत्नरत हैं !

ऋषि तर्पण के अंतर्गत नारद, चरक, व्यास दधीचि, सुश्रुत, वसिष्ठ, याज्ञवल्क्य, विश्वामित्र, अत्रि, कात्यायन, पाणिनि आदि ऋषियों के प्रति श्रद्धा आती है !

दिव्य मानव तर्पण के अंतर्गत जिन्होंने लोक मंगल के लिए त्याग-बलिदान किया है, जैसे-पांडव, महाराणा प्रताप, राजा हरिश्चंद्र, जनक, शिवि, शिवाजी, भामाशाह, गोखले, तिलक आदि महापुरुषों के प्रति कृतज्ञता की अभिव्यक्ति की जाती है !

दिव्य पितृ तर्पण के अंतर्गत जो अनुकरणीय परंपरा एवं पवित्र प्रतिष्ठा की संपत्ति छोड़ गये हैं, उनके प्रति कृतज्ञता हेतु तर्पण किया जाता है !

यम तर्पण जन्म-मरण की व्यवस्था करने वाली शक्ति के प्रति और मृत्यु का बोध बना रहे, इस उद्देश्य की पूर्ति के लिये इसे करते हैं !

मनुष्य पितृ तर्पण के अंतर्गत परिवार से संबंधित सभी परिजन, निकट संबंधी, गुरु, गुरु-पत्नी, शिष्य, मित्र आते हैं, यह उनके प्रति श्रद्धा भाव है !

इस प्रकार तर्पण रूपी कर्मकांड के माध्यम से हम अपनी सद्भावनाओं को जाग्रत करते हैं, ताकि वे सत्प्रवृत्तियों में परिणत होकर हमारे जीवन लक्ष्य में सहायक हो सकें !

शास्त्रों में कहीं-कहीं दैनिक तर्पण का भी वर्णन किया गया है क्योंकि कुछ शास्त्रकारों का यह मत है कि वर्ष में मात्र एक दिन किया गया तर्पण कर्म पर्याप्त नहीं है ! जैसे किसी व्यक्ति को वर्ष में 1 दिन भोजन जल आदि दे देने से वह सुखी नहीं हो सकते हैं ! ठीक इसी तरह किसी भी आत्मा को भी वर्ष में मात्र 1 दिन भोजन आदि दे देने से वह भी संतुष्ट नहीं होगी !

यह आत्मा के मनुष्य करण का प्रतीक ज्ञान है ! जबकि पंचतत्व से निर्मित पिण्ड से मुक्त आत्मा इन सभी सांसारिक क्रियाओं से प्रकृति की व्यवस्था के तहत स्वत: ही मुक्त होती है !

दूसरा तर्क यह भी है कि मनुष्य के अतिरिक्त 84 लाख योनियों में अन्य कोई जीव तर्पण आदि कर्म नहीं करता है ! जबकि शास्त्रों के अनुसार सभी जीवों में एक ही तरह की आत्मा का निवास होता है ! तो फिर क्या अन्य योनियों के पिंड छोड़ देने के उपरांत वह सब आत्मा भूखी प्यासी ही इस ब्रह्मांड में घूमती रहती हैं !

यह गहन विचार और शोध का विषय है ! इसको बिना किसी अनुभूति के स्वीकार या अस्वीकार नहीं किया जा सकता है ! या फिर इसे मात्र कर्मकांडी पंडितों का फैलाया हुआ धार्मिक मकड़जाल भी नहीं कहा जा सकता है !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

Check Also

संबंधों के बंधन का यथार्थ : Yogesh Mishra

सामाजिक दायित्वों का निर्वाह करते करते मनुष्य कब संबंधों के बंधन में बंध जाता है …