वैश्यालय (कोठे) मे हुआ था नेहरू का जन्म। उजागर हुआ एक और ऐतिहासिक तथ्य । जरूर देखें । Share करें ।

कृप्या धैर्य रखकर पूरा लेख पढ़ें,
अंत मे इसका प्रमाण भी दिया गया है ।

जवाहर लाल नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू अधिक पढे लिखे व्यक्ति नहीं थे . कम उम्र में विवाह के बाद जीविका की खोज में वह इलाहबाद आ गये थे. उसके बसने का स्थान मीरगंज था,ये मीरगंज वही स्थान है जहां एक समय तुर्क और मुग़ल अपहृत हिन्दू महिलाओं को अपने मनोरंजन के लिए रखते थे. मोतीलाल नेहरू तीसरी पत्नी के साथ जीविका चलाने के लिए वेश्यालय में शाम को हुक्का पेशी का कार्य करने लगे

.वहीं इनका परिचय उच्च न्यायलय में एक प्रसिद्द वकील मुबारक अली से हुआ जिन्होंने दिन के समय मोतीलाल नेहरू से कचहरी में मुख्तार का काम लेना शुरू कर दिया | इसी बीच मोतीलाल नेहरू की तीसरी पत्नी ने भारत के प्रथम प्रधान मंत्री को मीरगंज के वेश्यालय में कोठा नम्बर 44 में जन्म दिया | जैसे ही जवाहर पी एम् बना वैसे ही तुरंत उसने मीरगंज का वह मकान तुडवा दिया ,और अफवाह फैला दी की वह आनद भवन (इशरत महल) में पैदा हुआ था जबकि उस समय आनंद भवन था ही नहीं।

 
इसी विषय को ले कर इलाहाबाद हाईकोर्ट में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने नेहरू के जन्म स्थान से जिस्मफरोशी का धंधा बंद कराकर यहां पंडित नेहरू की मूर्ति लगाने, जन्म स्थली को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने के साथ मीरगंज मोहल्ले का सौंदर्यीकरण कराकर इसे नई पहचान दिलाने की मुहिम चला रखी है।
 
इलाहाबाद जिला प्रशासन से कई बार गुहार लगाने के बाद भी जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। जिस पर जस्टिस तरुण अग्रवाल और जस्टिस पीसी त्रिपाठी की डिवीजन बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद के जिलाधिकारी को चार हफ्ते में उचित फैसला लेने को कहा था ।
 Picture2

अभी कुछ महीने पूर्व इलाहबाद हाईकोर्ट ने इस अपील पर अपना निर्णय दे दिया , हाईकोर्ट ने जिस्मफिरोशी का अड्डा बन चुके मीरगंज के क्षेत्र मे नेहरू की मूर्ति लगाने का आदेश दिया है इस निर्णय के बाद अब कोई संशय नहीं रह जाता कि पंडित नेहरू का जन्म इलाहबाद के वेश्यालय मे हुआ था ।

 

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

भारत देश में ईसाई मत का आगमन और कारनामो का पर्दाफाश .Yogesh Mishra

भारत देश में ईसाई मत का आगमन कब हुआ। यह कुछ निश्चित नहीं हैं। एक …