अग्नि आक्रान्ता वैष्णव की खोज है : Yogesh Mishra

वैष्णव धर्म ग्रंथों में अग्नि को मानव इतिहास की सबसे बड़ी खोज बतलाया गया है ! जबकि शैव जीवन शैली में अग्नि का कोई महत्व नहीं है ! क्योंकि वह प्रकृति के सहयोगी और उपासक हैं !

मानव में मात्र आक्रान्ता मनुष्य ही अग्नि द्वारा काम लेते हैं ! शेष प्रकृति के सहायक, आस्थावान मानव, जीव-जन्तु, पशु-पक्षी, वनस्पति आदि तो अग्नि से दूर रहना ही पसंद करते हैं !

वन में शिकार के दौरान वैष्णव राजाओं को पशुओं से की गयी हिंसा के उपरांत जीव जन्तुओं से अपनी रक्षा के लिये अपने चारों ओर अग्नि जला कर रखनी पड़ती थी ! क्योंकि जिन पशुओं को वैष्णव राजाओं ने मारा है, उनके प्रिय जन पशु अंधेरे का लाभ उठाकर किसी भी समय उन वैष्णव हत्यारे राजाओं पर आक्रमण कर सकते थे !

जबकि शैव जीवन शैली जीने वाले साधु-संत, महात्मा, ऋषि आदि तो अपने व्यक्तित्व और ज्ञान से हिंसक पशुओं को भी अपना मित्र बना लेते थे ! जिसका जीता जागता उदाहरण आज भी थाईलैंड के टाइगर टेंपल में देखा जा सकता है !

आधुनिक वैज्ञानिक युग में भी वैश्विक साम्राज्यवाद के पोषक प्रकृति पर विश्वास न करने वाले वैष्णव मनुष्य ही अग्नि के द्वारा विविध कृत्यों को पूर्ण करते हैं !

उन्होंने विज्ञान की मदद से नियंत्रित अग्नि द्वारा वह शक्ति उत्पन्न की है, जिससे वह रेलगाड़ी चलते हैं ! विमान उड़ते हैं ! अग्नि द्वारा ही उनकी सभी पाकक्रिया सम्पन्न होती है ! जिससे मनुष्य का जीवन कृतिम आहार विहार में फंस कर रह गया है !

जबकि गर्भाशय में मनुष्य का निर्माण जल में ही होता है ! अत: मनुष्य की उत्पत्ति तो जल से ही है ! मनुष्य का अग्नि से संपर्क तो जन्म लेने के बाद अप्रकृतिक जीवन शैली के कारण शुरू होता है !

आक्रान्ता वैष्णव विचारक मनुष्य ही महायुद्धों में अग्नि से बने हुये धातु के हथियारों से ही वीभत्स जन संहार किया करते थे ! यह सभी हथियार अग्नि के सहयोग से ही बनते थे !

आधुनिक युग में उसी के आश्रय से बन्दूक चलती है, तोप चलाई जाती है, सर्व संहारक अस्त्र चलते हैं, बम डाले जाते हैं ! आदि आदि

आज के युग में भी जिस देश के पास तेल, कोयला आदि अग्नि के साधन नहीं हैं ! वह निर्बल है और अन्त में वह हार जाता है ! इसी कारण आक्रमणकारी देश सबसे पहले दूसरे राष्ट्र के पैट्रोलियाम और कोयले खानें आदि को नष्ट करने की चेष्टा करते हैं ! जिससे शत्रु की पराजय सुनिश्चित की जा सके !

आज अग्नि के उत्पादन और उससे संहार के नवीन प्रकारों का उद्भावन विज्ञान की मदद से किया जा रहा है ! परन्तु प्राचीन युग में अग्नि द्वारा शत्रुओं को नष्ट करने के लिये दिव्य शक्ति के उत्पादन का याज्ञिक प्रयोग किया जाता था !

जैसे आजकल विधान विशेष से अग्नि में पैट्रोल और कोयले की आहुति देकर भौतिक शक्ति पैदा की जाती हैं ! वैसे ही पुरा काल में प्राचीन ऋषि−मुनि विशेष विधान एवं मन्त्र विशेष से द्रव्य विशेष की आहुति देकर दिव्य शक्ति को उत्पन्न करके अपने तथा दूसरों के मनोरथ को पूर्ण करते थे !

इसीलिए सभी वैष्णव राजा अपने विशेष प्रयोजन के लिए विभिन्न यज्ञ किया करते थे ! जैसे अश्वमेध यज्ञ, पुत्रेष्ट यज्ञ, बाजपेई यज्ञ आदि आदि ! आजकल यद्यपि इसका प्रचार लुप्त हो गया है !

अर्वाचीन जड़ विज्ञान जिन बाधाओं को हटाने में सर्वथा असमर्थ है ! प्राच्य वैष्णव विज्ञान में उन बाधाओं को यज्ञ के द्वारा जप−पाठ, अनुष्ठान आदि करके हटाया जाता था ! इसीलिये वैष्णव ऋषियों द्वारा वेदों में यज्ञ विद्या भरी हुई है ! कल्पसूत्र में भी इनके विनियोग दिखलायी पड़ते हैं !

किंतु अज्ञानी वैष्णव साम्राज्यवादी विचारधारा के व्यक्तियों द्वारा अग्नि की यह स्वार्थ पूर्ण उपासना सदा सर्वदा मानव जाति के विनाश का कारण ही रहेगी ! इसीलिए शैव जीवन शैली का अनुगमन करके व्यक्ति को प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करके जीवन जीना चाहिये !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

Check Also

लंकेश काल रक्षिणी साधना : Yogesh Mishra

विशेष : इस लेख को बस सिर्फ शैव विचारक ही पढ़ें ! रावण ने कभी …