चीन के राष्ट्रवादी की कम्युनिस्ट यात्रा : Yogesh Mishra

1911 में चीन में एक राष्ट्रवादी लोकतांत्रिक क्रांति हुई और किंग राजवंश को उखाड़ फेंका गया और उसके स्थान पर चीन एक गणतंत्र के रूप में जाना गया ! शिन्हाई विकास, जैसा कि इसे कहा जाता था ! चीन में नए प्रकार की सरकार की स्थापना में इसका महत्वपूर्ण योगदान था और तब से चीन में किसी भी सम्राट ने देश पर शासन नहीं किया है !

10 अक्टूबर 1911 को चीनी लोग और पहली सेना के कई सदस्य वुचांग में एक सशस्त्र विद्रोह में एक साथ आए, जो कि शिन्हाई विकास की शुरुआत थी ! पूरे 12 फरवरी 1912 को चीन के अंतिम सम्राट को त्याग दिया गया और सन यात्सेन को चीन गणराज्य का नेता घोषित किया गया !

लेकिन यह घड़ी चीनियों के लिए खुशियों के द्वार खुलने काफी दूर रह गयी ! जब सन यात सेन स्थगित युआन शिखाई की भूमिका मिली, तब युआन ने चीन को तानाशाही में बदल दिया और उनकी मृत्यु के साथ 1916 में छोटे सेनाओं के साथ शक्तिशाली जमींदारों का उदय हुआ और एक अविश्वसनीय केंद्र सरकार कमजोर हो गयी !

कुओमिन्तांग, जो सुन यात सेन की राजनीतिक पार्टी थी, चीन को एक बार फिर से एक शक्तिशाली राज्य में बदलने का प्रयास किया ! इस समय उन्होंने चीनी समुदाय पार्टी की मदद ली !

1925 में सन यात सेन की मृत्यु के साथ राष्ट्रवादी और कम्युनिस्ट बुरी तरह समाप्त हो गयी ! दोनों पार्टियों के पास अब साझा लक्ष्य के लिए यूनाइटेड फ्रन्ट नहीं था ! अत: गठबंधन 2 साल से भी कम समय में अलग हो गया था ! जब एक क्रांति को चिंगारी देने की कोशिश की गई तो कुओमितांग जो चीन की राष्ट्रिय पोलिटिकल पार्टी थी, उन्होंने उन्हें देशद्रोही माना और इसने एक गृहयुद्ध को जन्म दिया ! जो 1926 से 1950 तक चला ! और इसमे कम्युनिस्ट जीत गया !

इस जीत ने लंबे समय से कहानी को उलझा दिया है क्योंकि सभी मोर्चे पर सैन्य आर्थिक रूप से राष्ट्रीय एक फायदा था ! लेकिन १९३४ में कम्युनिस्टों ने लगभग हारने के बाद दक्षिणी चीन को उत्तरी क्षेत्र में पहाड़ों तक ले गए ! इस मार्च को, जिसे लॉन्ग मार्च के नाम से जाना जाता है, इसने कम्युनिस्ट को युद्ध में फायदा दिया !
जापानी भी इस अवधि के दौरान चीन के बड़े हिस्से पर कब्जा कर रहे थे, जिससे कुओमिन्तांग कमजोर हो गया था और कम्युनिस्ट के लिए नियंत्रण हासिल करना थोड़ा आसान हो गया ! च्यांग काई शेक के लिए अमेरिकी समर्थन, जो कुओमितांग नेता थे, कम्युनिस्ट नेता अध्यक्ष माओ की जापानियों के खिलाफ बड़ी जीत थी, जिसने उन्हें लोगों की नज़र में और अधिक लोकप्रिय बना दिया !

माओ की लोकप्रियता तब बढ़ी जब उन्होंने नागरिकों और शांति और सरकारी कार्यवाही में अधिक अधिकार और अधिक से अधिक हिस्सेदारी दी ! लेकिन यह पुरस्कार निर्विरोध नहीं था ! उन्होंने वास्तविक चीन क्या था, इस पर उन्हें शिक्षित करने की आशा में कृषि कार्य करने के लिए सुधार कार्यक्रम, आवश्यक विज्ञान छात्र को ग्रामीण क्षेत्रों के लिए एक बौद्धिक बनाया !

यह कदम शिक्षित वर्गों पर अत्यधिक अलोकप्रिय था और इसका मतलब है कि कई चीनी निजी केवल व्यवसाय भंग कर दिए गए थे . लेकिन इस पॉइंट तक माओ की शक्ति पर लगभग असहमती थी !

द्वतीय विश्व युद्ध के युद्धविराम के 4 वर्षों के भीतर, कम्युनिस्ट ने च्यांग काई शेक्सापियार सेना को ताइवान भेजने में कामयाबी हासिल की, जिससे उन्हें देश के भीतर किसी भी शक्ति से छुटकारा मिल गयी और 1 अक्टूबर 1949 को माओ ने ‘पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना’ की घोषित कर दिया !

माओ का उद्देश्य, और सिद्धांत जिस पर संचार आधारित है, वह यह था कि मजदूर वर्ग देश की रीढ़ होना चाहिए या जैसा कि माओ कहते हैं, लोगों की लोकतांत्रिक तानाशाही !

सिद्धांत रूप में सरकार महिलाओं के लिए समान अधिकार सुनिश्चित करती है, श्रमिकों के अधिकार विचार भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार धार्मिक विश्वास की स्वतंत्रता और बहुत कुछ योजना है !

लेकिन सरकार ने इस तथाकथित अधिकारों की रक्षा के लिए कुछ नहीं किया ! इसके अलावा भूमि पुनर्वितरण का मतलब था कि जैसे भूमि मालिकों और श्रमिकों का इस बात पर कोई नियंत्रण नहीं था कि वे कहाँ रह सकते हैं और पैसा कमा सकते हैं और सरकार सत्ता को केंद्रीकृत करने के लिए संघर्ष करती है !

कोरिया युद्ध में साम्यवादी कोरिया का समर्थन करके और अमेरिकी विरोधी दुष्प्रचार फैलाकर चीन भी विश्व राजनीति में अपनी स्थिति स्पष्ट करने में सफल रहा ! 1953 तक अधिकांश विदेशियों ने देश छोड़ दिया !

आज चीन पांच कम्युनिस्ट देशों में से एक है जो अस्तित्व में है और यह अक्सर मार्क्सवादी विचारधारा के आधार पर सरकार की दमनकारी प्रकृति की आलोचना करता है ! लेकिन अन्य तर्क देते हैं कि मार्क्सवाद का कार्यान्वयन स्वयं उत्तर के बजाय त्रुटिपूर्ण है !!

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

Check Also

संबंधों के बंधन का यथार्थ : Yogesh Mishra

सामाजिक दायित्वों का निर्वाह करते करते मनुष्य कब संबंधों के बंधन में बंध जाता है …