जानिए । भस्म लेपन के पीछे का वैज्ञानिक कारण और किस रोग के लिए कौन सी भस्म लगाएँ । Yogesh Mishra

भस्म वस्तुतः आयुर्वेद के इन्जेकशन हैं।

भस्म रमाने के पीछे कुछ वैज्ञानिक तथा आध्यामित्क कारण भी हैं। भस्म की एक विशेषता होती है कि यह शरीर के रोम छिद्रों को बंद कर देती है। इसका मुख्य गुण है कि इसको शरीर पर लगाने से गर्मी में गर्मी और सर्दी में सर्दी नहीं लगती। भस्मी त्वचा संबंधी रोगों में भी दवा का काम करती है।

जुकाम या सर्दी लगने पर अभ्रक भस्म दी जाती है।, जिससे रोगी जल्दी अच्छा हो जाता है।

काष्ठादि दवा के साथ रस या भस्म का प्रयोग बहुत ही चमत्कारिक फल दिखाता है।

पाण्डु संगहणी सोथ खून की कमी आदि में लौह या मण्डूर भस्म के मुकाबले लाभ करने वाली अन्य दवा नहीं है।

स्वर्ण भस्म के सिवा दूसरी किस दवा में इतना ताकत है कि राजयक्ष्मा से रोगी की रक्षा कर सके। हीरा, मोती या प्रवाल भस्म
के समान दिल को मजबूत करने वाली कौन सी दवा है।

प्रमेह और धातुपुष्टि के लिए बंगभस्म के समान दूसरी औषधि है ही नहीं। इसी प्रकार सभी भस्में रामबाण की भांति अचूक लाभ करने वाली होती हैं।

अपने बारे में कुण्डली परामर्श हेतु संपर्क करें !

योगेश कुमार मिश्र 

ज्योतिषरत्न,इतिहासकार,संवैधानिक शोधकर्ता

एंव अधिवक्ता ( हाईकोर्ट)

 -: सम्पर्क :-
-090 444 14408
-094 530 92553

comments

Check Also

मांसाहारी थे विवेकानंद ,गांजा भी पीते थे इसी कारण से हुई थी मृत्यु ! : Yogesh Mishra

स्वामी विवेकानन्द का जन्म १२ जनवरी सन्‌ १८६3 को कलकत्ता में हुआ था। इनका बचपन …