sanatangyanpeeth

जानिये : दिव्य आध्यात्मिक ऊर्जा के हस्तान्तरण व रूपांतरण किसके द्वारा होता है !

ऊर्जा के हस्तान्तरण के लिए ज्ञान और ईश्वर की कृपा होना आवश्यक है. उदाहरण के लिए बिना जाने विदुत के तार को सीधे पकड़ लिया जाये तो व्यक्ति को करेंट लग कर करंट की क्षमता के अनुसार शारीरिक नुकसान होता है. विद्युतीय करंट उदासीन है , उसका कर्म है केवल …

Read More »

कुतुबमीनार वास्तव में हिन्दुओ का विष्णु संतभ है ,पढ़े पूरा इतिहास ,शेयर करें ! Yogesh Mishra

कुतुबुद्दीन ऐबक दुर्दांन्द लुटेरा शहाबुद्दीन मुहम्मद गौरी का अति महत्वाकॉँक्षी सैन्य गुलाम था | उसे बचपन में मुहम्मद गौरी को एक दास के रूप में बेच दिया गया था पृथ्वी राज चौहान द्वारा मोहम्‍मद गोरी को मारे जाने के बाद कुतुबुद्दीन ऐबक ने स्वयं को लाहौर में एक स्वत्रंत शासक …

Read More »

भगवान कृष्ण से जुड़े किसी भी मूल ग्रंथ में नहीं मिलता ‘राधा’ का वर्णन ,महत्वपूर्ण लेख जरूर पढ़ें ।

श्रीमद्भा भागवत पुराण में श्रीकृष्ण की बहुत सी लीलाओं का वर्णन है, पर “राधा” का वर्णन कहीं नहीं है। “राधा” का वर्णन मुख्य रूप से “ब्रह्मवैवर्त पुराण” में आया है। जो श्रीकृष्ण के समकालीन वेद व्यास द्वारा लिखित नहीं है | “ब्रह्मवैवर्त पुराण” ब्रह्मखंड के पाँचवें अध्याय में श्लोक 25,26 के अनुसार …

Read More »

जानिये । वर्ण व्यवस्था पर क्या कहते है भारतीय शास्त्र । महत्वपूर्ण जानकारी ,जरूर पढ़ें ।

व्यक्ति कर्म से पूजनीय है जन्म से नहीं: वर्ण व्यवस्था हिन्दू धर्म में प्राचीन काल से चले आ रहे सामाजिक गठन का अंग है, जिसमें विभिन्न समुदायों के लोगों के आध्यात्मिक विवेक के आधार पर काम निर्धारित होता था। प्रायः इन लोगों की संतानों के कार्य भी इन्हीं पर निर्भर करते …

Read More »

जानिये कैसे आप नकारात्मक ऊर्जा का सकारात्मक आध्यात्मिक ऊर्जा में रूपांतरण कर सकते हैं ?

पूर्व जन्म के संचित कर्मों के कारण हमारे अन्दर जन्म से ही कुछ सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा होती है | जैसे कि ऊर्जा को समाप्त नहीं किया जा सकता, इसलिए हमारे पूर्व जन्म के कर्म, वर्तमान जन्म को हस्तांतरित हो जाते है | कर्मों का यह चक्र तब तक चलता …

Read More »

जानिये आध्यात्मिक ऊर्जा क्या है, कैसे कार्य करती है ? और मनुष्य इसे कैसे प्राप्त कर सकता है ?

ऊर्जा अर्थात कार्य सम्पादन की क्षमता | भौतिक विज्ञान के अनुसार पदार्थ का एक गुण है जिसका हस्तांतरण पारस्परिक क्रियाओं द्वारा संभव है, किसी अन्य स्वरुप में रूपांतरण संभव है किन्तु उत्पत्ति और विनाश नहीं किया जा सकता है | जैसे कि हम सभी जानते है इस ब्रह्माण्ड में जिसका …

Read More »

”INDIAN” शब्द का वास्तविक अर्थ जानकर ,शर्म से डूब जाएंगे आप । जरूर पढ़ें ।

“Indian” शब्द का अर्थ है हरामी संतान:आपने पढ़ा होगा अंग्रेजोँ के समय मेँ सिनेमाघरोँ और कई सार्वजनिक जगहोँ पर “Dogs and Indians are not allowed”  का बोर्ड लगा रहता था इसी से आप समझ सकते हैँ अंग्रेज के लिये इंडियन्स की क्या वैल्यू थी। लेकिन यदि आप ऑक्सफ़ोर्ड की पुरानी डिक्शनरी …

Read More »

मेदिनी ज्योतिष की गणना के अनुसार भारत वर्ष 2047 में पुनः हिंदू राष्ट्र घोषित होगा । योगेश मिश्र

भारत 1971 अघोषित हिंदू राष्ट्र था क्योंकि 1947 में भारत का बटवारा इसी शर्त पर हुआ था कि हिंदू और मुसलमानों की संस्कृति अलग –अलग है अत: हिंदू मुसलमान एक साथ नहीं रह सकते | मुसलमानों के लिए हिंदुस्तान का एक अंग काट कर पाकिस्तान के नाम पर दे दिया …

Read More »

मिस्र के पिरामिड लाशों की कब्रगाह नहीं बल्कि वास्तु यंत्र है जरूर पढ़ें पूरा इतिहास ।

आज से 3000 वर्ष पूर्व समस्त प्रथ्वी पर एकमात्र सनातन धर्म ही था | गौतमबुद्ध के बौद्ध धर्म के प्रचार प्रसार के उपरांत बौद्ध धर्म से जब राजनीतिक सत्ताओं में हलचल हुई, बौद्ध धर्म की ओट में राजनीतिक लाभ, प्रतिष्ठा का लाभ और आर्थिक लाभ बौद्ध विहारों को प्राप्त होने …

Read More »

जानिये कैसे : महराजा भोज की भोजशाला तोड़कर मौलाना कमालुद्दीन मस्जिद बनाई गई ।

धार में परमार राजवंश के राजा भोज ने 1010 से 1055 ई0 तक 44 वर्षों तक शासन किया। महराजा भोज की भक्ति से प्रसन्न होकर माँ सरस्वती ने स्वयं प्रकट होकर अपने दिव्य स्वरूप के साक्षात् दर्शन दिये | उन्होने माँ सरस्वती की क्रपा से ६४ प्रकार की सिद्धियां प्राप्त …

Read More »